देश

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 19वें एशियाई खेलों में पदक जीतने वाले आर्म्स फ़ोर्स के खिलाड़ियों को किया सम्मानित

नई दिल्ली:

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने 19वें एशियाई खेलों में पदक जीतने के लिए सशस्त्र बलों के कर्मियों को नकद पुरस्कार की घोषणा की है. सभी गोल्ड मेडल विजेताओं को 25 लाख रूपये, सिल्वर मेडल विजेताओं को 15 लाख रूपये और ब्रॉन्ज मेडल मेडल विजेताओं को 10 लाख रूपये दिए जायेंगे . रक्षा मंत्री ने चीन के हांगझू में हाल ही में संपन्न 19वें एशियाई खेलों में भाग लेने वाले आर्म्स फ़ोर्स के विजेताओं को सम्मानित किया.

यह भी पढ़ें

रक्षा मंत्री ने नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में एशिया खेलो में भाग लेने वाले कुल 76 खिलाड़ियों के साथ बातचीत की और उन्हें खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए बधाई दी . रक्षा मंत्री ने कहा कि मैं कई बार यह बात कहता भी हूं, कि एक सैनिक के भीतर एक खिलाड़ी, और एक खिलाड़ी के भीतर जरूर एक सैनिक होता है . इस बार के एशियन गेम्स में हमने कुल मिलाकर 107 पदक जीते हैं.

पिछली बार, यानी 2018 के एशियन गेम्स में हमने 70 पदक जीते थे. 70 पदकों से लेकर 107 पदकों तक का यह जो सफर है,  इसमें यदि हम ग्रोथ के हिसाब से देखें, तो करीब 50% की वृद्धि हमें देखने को मिली है . प्रधानमंत्री मोदीजी के नेतृत्व में सरकार भी, भारत में खेल संस्कृति को डिवल्प करने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास कर रही है. हमने एक तरफ जहां फिट इंडिया  और खेलो इंडिया के माध्यम से देश के युवाओं में खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ाने का कार्य किया है, तो वहीं दूसरी तरफ Target Olympic Podium Scheme, यानि TOPS के माध्यम से हम ओलंपिक में भी भारत के पदकों की संख्या को बड़े स्तर पर बढ़ाने के लिए प्रयासरत है .

यह भी पढ़ें :-  राहुल गांधी की 'भारत जोड़ो न्याय यात्रा' का मणिपुर से आगाज, बोले- "इस वक्त भारी अन्याय का सामना कर रहा देश"

 राजनाथ सिंह ने यह भी कहा कि जिन लोगों ने पदक जीते हैं, मैं समझता हूं उनके ऊपर थोड़ी जिम्मेदारी और बढ़ जाती है. क्योंकि जब आप पदक जीत कर भारत आए हैं तो अब समाज आपको उस दृष्टि से नहीं देखेगा, जैसा वह पहले देखता था. अब समाज आपके अंदर एक हीरो देखेगा, अब समाज आपके अंदर एक रॉल मॉडल देखेगा, एक inspiration देखेगा .

ये भी पढ़ें-

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button