दुनिया

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने इजरायल से किया युद्धविराम का आग्रह, नेतन्याहू ने दी ये प्रतिक्रिया, जानें अहम बातें

नई दिल्ली:
Israel Hamas War: इजरायल हमास युद्ध पिछले एक महीने से अधिक समय से लगातार जारी है. इजरायल-हमास युद्ध में हमास शासित गाजा में 11,000 से अधिक फलस्तीनी नागरिकों की मौत हो गई है.वहीं, इजरायल में 1,400 से अधिक लोग मारे गए हैं .इस बीच, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन द्वारा गाजा में बढ़ती मौतों के बीच नागरिकों पर बमबारी रोकने का आह्वान किया. हालाकि इसके बावजूद इजरायल ने हमले तेज कर दिए हैं.

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

  1. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने कहा कि इजरायल द्वारा गाजा के नागरिकों पर बमबारी का “कोई औचित्य नहीं” था. इस बमबारी से हुई मौतें “आक्रोश” पैदा कर रही हैं. उन्होंने कहा, “इन बच्चों महिलाओं और बुजुर्गों पर बमबारी की गई और उन्हें मार दिया गया है.”

  2. इमैनुएल मैक्रॉन ने कहा, ” युद्धविराम से इज़रायल को फायदा होगा.हमारे सिद्धांतों के कारण यह हम सभी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि हम लोकतांत्रिक हैं.  मध्य से दीर्घावधि के साथ-साथ इज़रायल की सुरक्षा के लिए भी यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि सभी का जीवन मायने रखता है.”

  3. वहीं, हमास के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रहे इजरायल के पीएम नेतन्याहू ने युद्धविराम से इनकार करते हुए कहा, “हमास के साथ युद्धविराम का मतलब आत्मसमर्पण है.” उन्होंने कहा कि नागरिकों को किसी भी तरह के नुकसान की जिम्मेदारी हमास की है, इजरायल की नहीं.

  4. नेतन्याहू ने जोर देकर कहा कि इजरायल की फिलिस्तीनी क्षेत्र पर दोबारा कब्जा करने की योजना नहीं है, बल्कि वह इसे बेहतर भविष्य देना चाहता है. उन्होंने कहा, “गरीब और नाकाबंदी वाले क्षेत्र को” विसैन्यीकृत, कट्टरपंथ मुक्त और पुनर्निर्माण किया जाना चाहिए.

  5. बता दें कि घनी आबादी वाले तटीय क्षेत्र में युद्ध, जिसे प्रभावी ढंग से सील कर दिया गया है, ने नागरिकों के जीवन की रक्षा और अधिक मानवीय सहायता की अनुमति देने को लेकर युद्धविराम के लिए बार-बार आह्वान किया है.

  6. फिलिस्तीनियों ने कहा कि शुक्रवार को गाजा के सबसे बड़े अस्पताल परिसर पर एक घातक हमला हुआ. जिससे हजारों लोगों को आश्रय देने वाली चिकित्सा सुविधाएं इजरायल और हमास के बीच जारी संघर्ष में फंस गईं. इज़रायली सेना ने बार-बार हमास पर अपने हमलों के लिए अस्पतालों, विशेषकर अल-शिफ़ा का उपयोग करने का आरोप लगाया है.

  7.  इजरायल-हमास  के बीच युद्ध पर विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एडनोम घेबियस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को बताया कि गाजा में स्वास्थ्य प्रणाली चरमरा गई है.

  8. रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय समिति ने कहा, “अत्यधिक खिंची हुई, कम आपूर्ति पर चल रही और तेजी से असुरक्षित, गाजा में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली ऐसे बिंदु पर पहुंच गई है जहां से वापसी संभव नहीं है.”

  9. 7 अक्टूबर को हमास के हमले के बाद गाजा में एक महीने से अधिक समय से लड़ाई जारी है, जिसमें 1,400 से अधिक लोग मारे गए और 239 लोगों को बंधक बना लिया गया. हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, जवाबी हवाई बमबारी और जमीनी हमले में गाजा में 11,000 से अधिक लोग मारे गए हैं, जिनमें ज्यादातर नागरिक और उनमें से कई बच्चे हैं.

  10. इस संघर्ष ने क्षेत्रीय तनाव को भी बढ़ा दिया है, साथ ही इजरायली सेना और लेबनान के हिजबुल्लाह के बीच सीमा पार आदान-प्रदान भी हुआ है. यमन के ईरान समर्थित हूथी विद्रोहियों का कहना है कि उन्होंने दक्षिणी इज़रायल पर “बैलिस्टिक मिसाइलें” लॉन्च की हैं.

यह भी पढ़ें :-  अरब नेताओं ने 'गाजा के भविष्‍य' पर चर्चा करने से किया इनकार, अमेरिका में बोले- "पहले रुके युद्ध"
Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button