दुनिया

इजरायल-हमास युद्ध : गाजा का सबसे बड़ा अस्पताल भी मरीजों को जीवित रखने के लिए कर रहा है संघर्ष

नई दिल्ली:
इजरायल की सेना इन दिनों हमास के खात्मे के लिए गाजा पट्टी में अपना जमीनी ऑपरेशन चला रही है. लेकिन इस ऑपरेशन की वजह से गाजा पट्टी के अस्पतालों की हालत बेहद खराब हो चुकी है. कई अस्पतालों में तो मरीजों को बचाने के लिए जरूरी दवाओं तक की कमी है.

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

  1. इजरायल की सेना गाजा पट्टी में लगातार हमला कर रही है. इजरायली सेना के निशाने पर हमास के वो ठिकाने हैं जहां से छिपकर वो इजरायल पर रह-रहकर पलटवार कर रहे हैं. लेकिन इन सबके बीच गाजा पट्टी में स्थिति अस्पतालों की स्थिति बेहद दयनीय हो गई है. कई अस्पताल तो ऐसे हैं जहां मरीजों को जीवित रखने के लिए जरूरी दवाइयों की भी कमी है. 

  2. इज़राइल ने उन रिपोर्टों का सख्ती से खंडन किया है कि उन्होंने गाजा पट्टी के सबसे बड़े अस्पताल पर गोलीबारी की, लेकिन कहा कि उनके सैनिक अल-शिफ़ा के पास हमास के गुर्गों से लड़ रहे हैं.

  3. सैन्य प्रवक्ता डैनियल हगारी ने एक टेलीविज़न ब्रीफिंग में कहा कि पिछले घंटों के दौरान, झूठी सूचना फैलाई गई है कि हम अल-शिफ़ा अस्पताल को घेर रहे हैं और उस पर हमला कर रहे हैं. ये झूठी रिपोर्टें हैं.

  4. यह बयान फिलिस्तीनी अधिकारियों के यह कहने के कुछ घंटों बाद आया कि अस्पताल में दो नवजात शिशुओं की मौत हो गई है और बिजली की कमी के कारण इनक्यूबेटरों में दर्जनों अन्य खतरे में हैं. इजरायली सेना हमास को खत्म करने के लिए गाजा पट्टी में बीते कई दिनों से जबरदस्त गोलीबारी और बमबारी कर रही है. 

  5. सहायता एजेंसियों और अस्पताल के कर्मचारियों ने कहा है कि स्थिति पहले से ही “विनाशकारी” है क्योंकि दवाओं और ईंधन की भारी कमी है. मानवाधिकार इज़रायल के चिकित्सकों ने अल-शिफा के डॉक्टरों का हवाला देते हुए कहा कि अस्पताल को घेर लिया गया है, बाहर फैले हुए शवों और घायल लोगों को लाने का कोई विकल्प नहीं है.  

  6. मौजूदा स्थिति के बारे में बताते हुए अस्पताल के एक व्यक्ति ने एएफपी से कहा कि गोलीबारी कभी नहीं रुक रही है. हवाई हमले भी बेरोकटोक हो रहे हैं और तोप से गोले भी दागे जा रहे हैं. परिसर के आसपास दर्जनों शव हैं जिन तक कोई नहीं पहुंच सकता है.

  7. इज़राइल ने कहा कि गाजा से दक्षिणी इज़राइल में रॉकेट अभी भी दागे जा रहे हैं, जहां उसने कहा है कि पिछले महीने हमास द्वारा लगभग 1,200 लोग मारे गए थे और 200 से अधिक लोगों को बंधक बना लिया गया था. फिलिस्तीनी अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि 7 अक्टूबर से अब तक 11,078 गाजा निवासी हवाई और रॉकेट हमलों में मारे गए हैं, जिनमें से लगभग 40 प्रतिशत बच्चे हैं.

  8. इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने फॉक्स न्यूज से कहा कि उनके देश की गाजा पर दोबारा कब्जा करने की कोई योजना नहीं है. उन्होंने कहा कि हम गाजा पर शासन नहीं करना चाहते. हम इस पर कब्जा नहीं करना चाहते, बल्कि हम इसे और हमें एक बेहतर भविष्य देना चाहते हैं. 

  9. इस संघर्ष ने क्षेत्रीय तनाव को बढ़ा दिया है, जिससे इजरायली सेना और लेबनान के हिजबुल्लाह आंदोलन के बीच आपसी हमले तेज हो गए हैं. सऊदी अरब, मुस्लिम और अरब देशों की बैठक में इजराइल के आत्मरक्षा के औचित्य को खारिज करते हुए गाजा में सैन्य अभियान को तत्काल रोकने का आह्वान किया गया. 

  10. युद्ध के कारण दुनिया भर में विरोध प्रदर्शन भी शुरू हो गए हैं। शनिवार को कम से कम 300,000 फ़िलिस्तीनी समर्थक प्रदर्शनकारियों ने लंदन में मार्च किया और पुलिस ने 120 से अधिक लोगों को गिरफ़्तार किया क्योंकि वे रैली पर घात लगाकर हमला करने वाले धुर दक्षिणपंथी प्रति-प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश कर रहे थे. 

यह भी पढ़ें :-  "गाजा में नरक जैसे हालात", सीजफायर की अपील कर भावुक हो गए WHO चीफ टेड्रोस
Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button