दुनिया

जस्टिन ट्रूडो का भारत के साथ राजनयिक विवाद के बीच "हैप्पी नवरात्रि" मैसेज

जस्टिन ट्रूडो ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर पोस्ट किया, “नवरात्रि की शुभकामनाएं! मैं हिंदू समुदाय के सदस्यों और इस त्योहार को मनाने वाले सभी लोगों को अपनी हार्दिक शुभकामनाएं भेज रहा हूं.”

नवरात्रि देवी दुर्गा की आराधना के लिए मनाया जाने वाला त्‍योहार है, जो साल में दो बार आता है. यह नौ रातों तक चलता है, पहली बार चैत्र और फिर अश्विन के महीने में आता है. 

ट्रूडो ने पिछले महीने सार्वजनिक रूप से संदेह जताया था कि खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंट शामिल थे, जिनकी 18 जून को वैंकूवर उपनगर में अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. ट्रूडो के बयान के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था. भारत ने इस आरोप को बेतुका बताते हुए खारिज कर दिया और दोनों देशों ने एक-एक राजनयिक को निष्कासित कर दिया. 

भारत ने कनाडाई लोगों के लिए नए वीजा निलंबित कर दिए और ओटावा से भारत में अपनी राजनयिक उपस्थिति कम करने को कहा. 

हालांकि बाद में ट्रूडो ने कहा कि कनाडा विवाद को बढ़ाना नहीं चाहता है.  साथ ही उन्होंने कहा, “हम इसे बेहद गंभीरता से ले रहे हैं, लेकिन हम भारत सरकार के साथ जिम्मेदारीपूर्वक और रचनात्मक रूप से जुड़ना जारी रखेंगे.”

हाल ही में जॉर्डन के राजा और यूएई के प्रेसिडेंट के साथ भारत के संबंधों की चर्चा के बाद विभिन्न वैश्विक नेताओं के साथ भारत का मुद्दा उठाने के लिए कनाडा के प्रधानमंत्री को ऑनलाइन बड़े पैमाने पर ट्रोल किया गया था. 

यह भी पढ़ें :-  भारत ने नहीं की थी 2021 के कनाडा चुनाव में दख़लअंदाज़ी, जिसमें जीते थे ट्रूडो : कनाडाई खुफ़िया एजेंसी का खुलासा

इस बीच, एनडीटीवी द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण से पता चला है कि निज्जर की मौत में भारत की संलिप्तता का आरोप लगाने के बाद जस्टिन ट्रूडो की रेटिंग अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है. 

ये भी पढ़ें :

* भारत-कनाडा विवाद को लेकर ऋषि सुनक ने किया तनाव कम करने का आह्वान

* गुस्साए कनाडाई नागरिक ने किया प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का विरोध, सरेआम कहे ‘अपशब्‍द’

* अमेरिका ने भारत-कनाडा विवाद से दिल्ली-वाशिंगटन संबंधों पर असर पड़ने की रिपोर्ट खारिज की

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button