देश

लोकसभा चुनाव: अन्नाद्रमुक ने कहा- बीजेपी के लिए हमारे दरवाजे बंद 

अन्नाद्रमुक के संगठन सचिव जयकुमार ने कहा, ‘‘अमित शाह ने कहा है कि उनकी पार्टी के दरवाजे अन्नाद्रमुक के लिए खुले हैं. जहां तक हमारी पार्टी के रुख की बात है, भाजपा एक समय सहयोगी पार्टी थी. अब, यह एक ऐसी पार्टी है जिसका हम खुलकर विरोध करते हैं.” शाह ने एक तमिल दैनिक को दिए साक्षात्कार में कहा कि गठबंधन के लिए भाजपा के दरवाजे अन्नाद्रमुक के लिए खुले हैं.

साक्षात्कार का हवाला देते हुए, भाजपा की तमिलनाडु इकाई के अध्यक्ष के. अन्नामलाई ने कहा कि अमित शाह ने विशेष रूप से अन्नाद्रमुक का नाम नहीं लिया या आमंत्रित नहीं किया. उन्होंने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि दूसरी ओर, यह उन सभी दलों के लिए खुला निमंत्रण है जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व को स्वीकार करते हैं.

अन्नामलाई ने आश्चर्य जताया कि द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) गठबंधन में शामिल दलों को अमित शाह के निमंत्रण के दायरे से बाहर क्यों रखा जाना चाहिए क्योंकि द्रमुक मोर्चे के दल भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल हो सकते हैं. अन्नाद्रमुक नेता ने अन्नामलाई का नाम लिए बिना आरोप लगाया कि द्रविड़ दिग्गज सी. एन. अन्नादुरई और अन्नाद्रमुक की पूर्व प्रमुख दिवंगत जे. जयललिता का उन्होंने अनादर किया.

उन्होंने कहा कि इतने बड़े नेताओं के खिलाफ अन्नामलाई की आलोचना जारी रही, बावजूद इसके कि उनकी पार्टी ने इसकी कड़ी निंदा की थी. जयकुमार ने कहा, ‘‘हम भाजपा को कैसे स्वीकार कर सकते हैं? पार्टी कार्यकर्ता और लोग भाजपा के साथ हाथ मिलाने के खिलाफ हैं. जब हमने भाजपा से अपना नाता तोड़ा था, तो पार्टी कार्यकर्ताओं ने राज्यभर में पटाखे फोड़े थे, यह हमारे कार्यकर्ताओं की भावनाओं को दर्शाता है कि वे भाजपा के साथ कोई गठबंधन नहीं चाहते हैं.”

यह भी पढ़ें :-  महादेव बेटिंग ऐप केस : ED के हाथ लगे कौन से सबूत, जिनसे बढ़ सकती है CM बघेल की मुश्किलें?

उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी के इस संकल्प कि भाजपा के साथ कभी गठबंधन नहीं होगा, का राज्यभर में पार्टी कार्यकर्ताओं और लोगों ने स्वागत किया. जहां तक हमारा सवाल है, हमने भाजपा के लिए अपने दरवाजे बंद कर दिए हैं, भले ही उन्होंने अपना दरवाजा (अन्नाद्रमुक के लिए) खुला रखा हो. हमने भाजपा के लिए अपने दरवाजे बंद कर दिए हैं. हम नहीं चाहते कि भाजपा हमारे पास आए. यह हमारा रुख है.”

यह पूछे जाने पर कि अगर भाजपा ने जयललिता के खिलाफ टिप्पणी के लिए अन्नामलाई के खिलाफ कार्रवाई की तो क्या अन्नाद्रमुक अपने रुख पर पुनर्विचार करेगी, जयकुमार ने कहा, ‘‘फैसला बदलने का कोई सवाल ही नहीं है.”

अन्नामलाई ने कहा, ‘‘अमित शाह इस रुख पर कायम हैं कि भाजपा उन दलों का राजग में स्वागत करती है जो प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व को स्वीकार करती हैं. यही उनका कहना था (साक्षात्कार में). उन्होंने स्पष्ट रूप से किसी राजनीतिक दल के नाम का उल्लेख नहीं किया.”

(इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button