देश

'… तो सलाखों के पीछे भेज दो' : मूसेवाला के पिता ने नवजात बेटे को लेकर 'प्रताड़ित' करने का लगाया आरोप

सिंह ने मंगलवार को इस संबंध में इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट साझा की, जिसमें उन्होंने यह आरोप लगाया कि प्रशासन उन्हें यह साबित करने के लिए परेशान कर रहा है कि बच्चा वैध है.

सिंह ने एक वीडियो में कहा, ”दो दिन पहले ‘वाहेगुरु’ के आशीर्वाद और आपकी दुआएं से हमें हमारा शुभदीप (सिद्धू मूसेवाला) वापस मिल गया. लेकिन सुबह से ही प्रशासन मुझे परेशान कर रहा है. वह मुझसे बच्चे का दस्तावेज पेश करने के लिए कह रहे हैं. वे मुझसे कई सवाल पूछ रहे हैं. मुझसे यह साबित करने के लिए कह रहे हैं कि यह बच्चा वैध है.”

वीडियो में उन्होंने सरकार से अनुरोध किया, ‘खासकर सीएम ‘साहब’ (मुख्यमंत्री भगवंत मान) इलाज पूरा होने दीजिए. मैं यहीं का रहने वाला हूं और आप जहां भी बुलाएंगे, मैं वहां आऊंगा.’

उन्होंने कहा, ”मैं दुखी हूं. मैं आपको कड़े शब्दों में बता देना चाहता हूं अपनी बातों से पलटने की आदत, आपकी है. आपके सलाहकार आपको ऐसी सलाह देते हैं… मैं अपनी बातों से पलटने वालों में से नहीं हूं.” सिंह ने जोर देकर कहा कि उन्होंने किसी कानून का उल्लंघन नहीं किया है.

उन्होंने वीडियो में कहा, ”अगर मैंने किसी कानून का उल्लंघन किया है तो मुझे सलाखों के पीछे भेज दो… मेरे खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करो, मुझे जेल में डालो और फिर जांच करो. मैं सभी कानूनी दस्तावेज उपलब्ध कराऊंगा.”

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पंजाब सरकार से कौर के आईवीएफ उपचार पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. मंत्रालय ने कौर की अनुसार पर सवाल उठाते हुए कहा कि कानून के अनुसार सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (एआरटी) सेवाओं का उपयोग करने वाली महिला के लिए आयु सीमा 21 से 50 वर्ष के बीच है.

यह भी पढ़ें :-  छत्तीसगढ़ के सुकमा में सुरक्षाकर्मियों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, 3 जवान शहीद, 14 घायल
मूसेवाला के पिता की आयु करीब 60 साल है, जबकि उनकी मां चरण कौर 58 वर्ष की हैं.

पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगते समय मंत्रालय ने मीडिया खबर का हवाला दिया है जिसमें बताया गया है कि कौर ने 58 वर्ष की आयु में आईवीएफ प्रक्रिया का उपयोग करते हुए बच्चे को जन्म दिया है.

सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (विनियमन) अधिनियम, 2021 की धारा 21 (जी) (आई) के तहत एआरटी) सेवाओं का उपयोग कर बच्चे को जन्म देने के लिए महिला की तय आयु सीमा 21-50 वर्ष के बीच होनी चाहिए. आईवीएफ कृत्रिम गर्भाधान की एक प्रक्रिया है.

मंत्रालय ने कहा, ‘‘इसलिए आपसे अनुरोध है कि आप इस मामले की जांच करें और एआरटी (विनियमन) अधिनियम, 2021 के अनुसार इस मामले में की गई कार्रवाई की एक रिपोर्ट विभाग को सौंपे.

विपक्षी दल के नेताओं ने मूसेवाला के पिता द्वारा लगाए गए आरोपों पर पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार की आलोचना की.

पंजाब कांग्रेस प्रमुख अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर की गई एक पोस्ट में कहा, ”भगवंत मान जी आप शायद एकमात्र पंजाबी हैं जिन्होंने अभी तक बलकौर सिंह को उनके बेटे के जन्म पर बधाई नहीं दी है और अब आपका प्रशासन बच्चे की वैधता को लेकर परेशान कर रहा है. आपसे अनुरोध है कि आप सिद्धू परिवार को परेशान करना बंद करें.”

शुभदीप सिंह सिद्धू को सिद्धू मूसेवाला के नाम से जाना जाता है. 29 मई, 2022 को पंजाब के मनसा जिले में गायक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उन्होंने 2022 में पंजाब विधानसभा चुनाव में मनसा से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन इसमें वह हार गए थे.

 

यह भी पढ़ें :-  बेंगलुरु कैफे बम धमाके का CCTV फुटेज आया सामने, जान बचाने के लिए इधर-उधर भागते दिखे लोग

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button