दुनिया

2,000 साल पुरानी ज्वालामुखी में दबी स्क्रॉल को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से पढ़ा गया

माउंट वेसुवियस ज्वालामुखी द्वारा दबी हुई 2,000 साल पुरानी स्क्रॉल को पढ़ा गया…

वाशिंगटन:

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के जरिए कई ऐसे कारनामे किये जा रहे हैं, जिन्‍हें असंभव माना जाता रहा है. एएफपी की खबर के मुताबिक, माउंट वेसुवियस के विस्फोट में झुलसे हुए 2,000 साल पुराने स्क्रॉल (लिपटे हुए कागज़) को पढ़ने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का इस्‍तेमाल करने के लिए तीन शोधकर्ताओं ने सोमवार को 700,000 डॉलर का पुरस्कार जीता. “वेसुवियस चैलेंज” के आयोजकों के अनुसार, हरकुलेनियम पपीरी में लगभग 800 ग्रीक स्क्रॉल शामिल हैं, जो 79 ईस्वी के ज्वालामुखी विस्फोट के दौरान दब गए थे. यह वही ज्‍वालामुखी था, जिसने प्राचीन रोमन शहर पोम्पेई को दफन कर दिया था.

स्क्रॉल के हाई-रिज़ॉल्यूशन सीटी स्कैन किये गए

यह भी पढ़ें

सख्‍त हो चुकी राख के लट्ठों से मिलते-जुलते स्क्रॉल, जो पेरिस में इंस्टीट्यूट डी फ्रांस और नेपल्स की नेशनल लाइब्रेरी में रखे गए हैं. ये बेहद क्षतिग्रस्त हो गए हैं और यहां तक ​​​​कि जब उन्हें खोलने का प्रयास किया गया तो वे टूट भी गए. वेसुवियस चैलेंज में चार स्क्रॉल के हाई-रिज़ॉल्यूशन सीटी स्कैन किए और उन पर रिसर्च को प्रोत्साहित करने के लिए कई पुरस्कारों में से एक मिलियन डॉलर की पेशकश की. 

शोधकर्ताओं की टीम… 

पुरस्कार जीतने वाले लोगों में बर्लिन में पीएचडी छात्र यूसुफ नादर, नेब्रास्का के एक छात्र और स्पेसएक्स प्रशिक्षु ल्यूक फैरिटर और स्विस रोबोटिक्स छात्र जूलियन शिलिगर शामिल हैं. शोधकर्ताओं के इस समूह ने स्याही को पपीरस से अलग करने और पैटर्न पहचान के माध्यम से धुंधले और लगभग अपठनीय ग्रीक अक्षरों को विकसित करने के लिए एआई का उपयोग किया. 

यह भी पढ़ें :-  कृत्रिम मेधा में अपार संभावनाएं हैं, लेकिन इससे जुड़ी चिंताओं का दूर करना जरूरी: राष्ट्रपति मुर्मू

इतिहास को पूरी तरह से फिर से लिख…

क्लासिकिस्ट और हरकुलेनियम सोसाइटी के अध्यक्ष रॉबर्ट फाउलर ने ब्लूमबर्ग बिजनेसवीक पत्रिका को बताया, “इनमें से कुछ ग्रंथ प्राचीन दुनिया के प्रमुख कालखंडों के इतिहास को पूरी तरह से फिर से लिख सकते हैं.” चुनौती के लिए शोधकर्ताओं को कम से कम 140 वर्णों के चार अंशों को समझने की आवश्यकता थी, जिनमें से कम से कम 85 प्रतिशत वर्ण पुनर्प्राप्त करने योग्य थे. 

स्क्रॉल के लेखक “संभवतः एपिकुरियन दार्शनिक फिलोडेमस

पिछले साल फ़ारिटर ने स्क्रॉल में से एक शब्द को डिकोड किया, जो “बैंगनी” के लिए ग्रीक शब्द निकला. आयोजकों के अनुसार, संयुक्त रूप से उनके प्रयासों ने अब स्क्रॉल के लगभग पांच प्रतिशत अंश को डिक्रिप्ट कर दिया है. प्रतियोगिता के आयोजक नट फ्रीडमैन ने एक्स पर लिखा, “स्क्रॉल के लेखक “संभवतः एपिकुरियन दार्शनिक फिलोडेमस” थे, जो ‘संगीत, भोजन और जीवन का आनंद कैसे लें’, इसके बारे में लिखते थे.”  

स्क्रॉल एक विला में पाए गए थे, जिसके बारे में माना जाता है कि यह पहले जूलियस सीज़र के ससुर के स्वामित्व में था, जिनकी ज्यादातर बिना खुदाई वाली संपत्ति में एक पुस्तकालय था जिसमें हजारों और पांडुलिपियां हो सकती थीं. यह प्रतियोगिता केंटुकी विश्वविद्यालय के कंप्यूटर वैज्ञानिक ब्रेंट सील्स और माइक्रोसॉफ्ट द्वारा खरीदे गए सॉफ्टवेयर और कोडिंग प्लेटफॉर्म जीथब के संस्थापक फ्रीडमैन के दिमाग की उपज थी.

ये भी पढ़ें :- 

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button