देश

अयोध्‍या में रामलला की प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम से इतर जानिए- क्‍या कर रहे राहुल गांधी समेत अन्‍य विपक्षी नेता

प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम का आयोजन करने वाले मंदिर ट्रस्ट ने कई विपक्षी नेताओं को आमंत्रित किया, लेकिन उन्होंने इससे दूर रहने का फैसला किया है. जहां कुछ ने भाजपा पर धार्मिक आयोजन का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया है, वहीं अन्य ने कहा है कि वे बाद में मंदिर जाएंगे. ऐसे में सवाल यह है कि प्रमुख विपक्षी नेता आज क्या करेंगे, जबकि अयोध्या में समारोह चल रहा है.

पूर्वोत्‍तर में राहुल गांधी…

भारत जोड़ो न्याय यात्रा के लिए पूर्वोत्तर में मौजूद कांग्रेस नेता राहुल गांधी का आज 15वीं सदी के समाज सुधारक श्रीमंत शंकरदेव की जन्मस्थली बताद्रवा थान जाने का कार्यक्रम है. राहुल गांधी ने कहा है कि उन्हें मंदिर में जाने से रोका जा रहा है. उन्होंने पाबंदियों पर सवाल उठाते हुए पूछा, “हम मंदिर जाना चाहते हैं. मैंने क्या अपराध किया है कि मैं मंदिर नहीं जा सकता?”

मल्लिकार्जुन खड़गे और सोनिया गांधी…

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, जिन्हें सोनिया गांधी के साथ अयोध्या कार्यक्रम के लिए आमंत्रित किया गया था, वे भी अब पूर्वोत्तर से गुजरने वाली राहुल गांधी की यात्रा में शामिल हो गए हैं. कांग्रेस ने काफी विचार करने के बाद प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में शामिल नहीं होने का फैसला लिया. हालांकि, कांग्रेस के इस कदम को लेकर कई सवाल भी उठाए जा रहे हैं.  

ममता बनर्जी करेंगी रैली 

इधर, जैसे ही अयोध्या समारोह शुरू होगा, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी धार्मिक सद्भाव का आह्वान करते हुए कोलकाता में एक समानांतर रैली करेंगी. ममता बनर्जी, जिन्हें अयोध्या कार्यक्रम के लिए निमंत्रण मिला है, सबसे पहले पूजा करने के लिए प्रतिष्ठित कालीघाट मंदिर जाएंगी. इसके बाद वह ‘सर्व-विश्वास रैली’ आयोजित करेंगी. भाजपा ने उन पर अयोध्या कार्यक्रम से ध्यान भटकाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है और मार्च को रोकने के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया था, लेकिन असफल रहे. तृणमूल ने जवाब दिया है कि उसने पहले भी ऐसी रैलियां आयोजित की हैं.

यह भी पढ़ें :-  अदालत ने ईडी के समन से जुड़े मामले में अरविंद केजरीवाल को शनिवार को व्यक्तिगत पेशी से छूट दी

आम आदमी पार्टी निकाल रही शोभायात्रा.. 

अयोध्या में प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम के बीच आज दिल्ली में आम आदमी पार्टी (AAP) द्वारा नियोजित कार्यक्रमों की एक लंबी सूची में शोभा यात्रा, भंडारा, सुंदर कांड पाठ और आरती शामिल हैं. इन सामुदायिक कार्यक्रमों में पार्टी के मंत्री, विधायक और पार्षद हिस्सा लेंगे. आप नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पहले कहा था कि उन्हें सूचित किया गया था कि उन्हें इस कार्यक्रम के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. केजरीवाल ने बाद में एक पत्र लिखकर बताया कि कार्यक्रम में बहुत सारे वीआईपी और वीवीआईपी आएंगे और सुरक्षा कारणों से केवल एक व्यक्ति को अनुमति दी जाएगी. मैं अपनी पत्नी, माता-पिता और बच्चों के साथ आना चाहता हूं. इसलिए हम बाद में जाएंगे.” केजरीवाल ने आप के सभी मंत्रियों, विधायकों, पार्षदों और कार्यकर्ताओं से शोभा यात्राओं में भाग लेने, भंडारों में योगदान देने और इस भव्य आयोजन के उपलक्ष्य में लोगों की सेवा करने का आग्रह किया है.

तमिलनाडु में डीएमके बनाम बीजेपी

एमके स्टालिन के नेतृत्व वाली द्रमुक ने स्पष्ट कर दिया है कि वह “विवादित को ध्वस्त करने के बाद मंदिर के निर्माण से सहमत नहीं हैं”. भाजपा ने आरोप लगाया है कि तमिलनाडु में सत्तारूढ़ दल अयोध्या कार्यक्रम की सार्वजनिक स्क्रीनिंग की अनुमति देने से इनकार कर रहा है. द्रमुक ने इस आरोप का खंडन किया है और भाजपा पर अपने युवा सम्मेलन से ध्यान भटकाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है.

शरद पवार, लालू यादव ने भी किया किनारा

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने उन्हें आमंत्रित करने के लिए मंदिर ट्रस्ट को धन्यवाद दिया है, लेकिन कहा है कि वह समारोह के बाद जब कम भीड़ होगी, तो अयोध्या मंदिर का दौरा करेंगे. उनके समकालीन और राष्ट्रीय जनता दल के संरक्षक लालू यादव भी दूर रहेंगे. लालू यादव, जो मंदिर के लिए समर्थन जुटाने के लिए लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व वाली रथ यात्रा को रोकने पर सुर्खियों में आए थे, उन्‍होंने पिछले हफ्ते मीडिया से कहा था कि वह इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे. उन्होंने कोई कारण नहीं बताया. अन्य विपक्षी नेताओं में, समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने कहा है कि वह प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद अपने परिवार के साथ मंदिर जाएंगे. उन्होंने आमंत्रण के लिए आयोजकों को धन्यवाद दिया है.

यह भी पढ़ें :-  प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा से पहले जम्मू में ड्रोन, अन्य हवाई उपकरणों के परिचालन पर अस्थायी पाबंदी

उद्धव ठाकरे करेंगे गोदावरी नदी तट पर ‘महा आरती’

शिवसेना (यूबीटी) गुट के प्रमुख उद्धव ठाकरे भी अयोध्या कार्यक्रम से दूर रहेंगे. उनके सहयोगी और पार्टी नेता संजय राउत ने कहा है कि ठाकरे नासिक के कालाराम मंदिर में पूजा करेंगे और गोदावरी नदी तट पर ‘महा आरती’ करेंगे. राउत ने स्पीड पोस्ट पर ठाकरे को निमंत्रण देने की भी आलोचना की. उन्होंने कहा, “भगवान राम आपको श्राप देंगे. सभी फिल्मी सितारों को आमंत्रित किया गया है, लेकिन आंदोलन से करीब से जुड़े रहे ठाकरे परिवार के साथ इस तरह का व्यवहार किया जा रहा है.”

ये भी पढ़ें :- 

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button