देश

APSEZ ने वैश्विक स्तर पर संभाला 420 MMT कार्गो, घरेलू पोर्ट्स का योगदान रहा 408 MMT

वित्तवर्ष 2024 के दौरान APSEZ के 10 बंदरगाहों और टर्मिनलों द्वारा संभाला गया कार्गो वॉल्यूम रिकॉर्ड स्तर पर रहा…

अहमदाबाद:

भारत की सबसे बड़ी बंदरगाह और लॉजिस्टिक्स कंपनी अदानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (APSEZ) ने वित्तवर्ष 2024 के दौरान अपने अंतरराष्ट्रीय बंदरगाहों को मिलाकर 420 MMT (साल दर साल 24 फ़ीसदी बढ़ोतरी) कार्गो संभाला, जिसमें 408 MMT से ज़्यादा का योगदान घरेलू बंदरगाहों का रहा. मार्च, 2024 में कंपनी ने अंतरराष्ट्रीय बंदरगाहों सहित 38 MMT से ज़्यादा कार्गो वॉल्यूम संभाला, जो उच्चतम मासिक रिकॉर्ड रहा. कंपनी के 10 बंदरगाहों और टर्मिनलों द्वारा संभाला गया कार्गो वॉल्यूम रिकॉर्ड स्तर पर रहा, जिनमें मुंद्रा 180 MMT, ट्यूना 10 MMT, हजीरा 26 MMT, मरमुगाओ 5 MMT, कराईकल 12 MMT, एन्नौर 13 MMT, कट्टुपल्ली 12 MMT, कृष्णापट्टनम 59 MMT, गंगावरम 37 MMT तथा धामरा 43 MMT रहा.

यह भी पढ़ें

वित्तवर्ष 2024 के दौरान देशभर के कुल कार्गो वॉल्यूम का एक-चौथाई से अधिक APSEZ बंदरगाहों के ज़रिये भेजा गया. APSEZ का यह अहम योगदान भारत को विकास मार्ग पर बढ़ाने में कंपनी की सक्रिय भूमिका को रेखांकित करता है. इससे यह भी ज़ाहिर होता है कि देश के सबसे बड़े बंदरगाह ऑपरेटर ने वित्तवर्ष की शुरुआत में दिए 370 MMT से 390 MMT के कार्गो वॉल्यूम गाइडेंस को पार कर लिया.

APSEZ के प्रबंध निदेशक करण अदाणी का कहना है, “कंपनी को पहली बार 100 MMT वार्षिक कार्गो थ्रूपुट हासिल करने में 14 साल लगे थे, लेकिन दूसरे और तीसरे 100 MMT थ्रूपुट सिर्फ़ 5 और 3 साल में हासिल किए गए… अब यह नवीनतम 100 MMT का आंकड़ा दो साल से भी कम समय में हासिल किया गया है… यह हमारी परिचालन दक्षता बढ़ाने और शीर्ष बंदरगाह ऑपरेटर के रूप में हमारी स्थिति बनाए रखने की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता और प्रयासों का प्रमाण है…”

यह भी पढ़ें :-  नोएडा में स्कूल में चोरी करने वाला गिरफ्तार, चोरी का सामान हुआ बरामद

APSEZ ने अपने सभी फ़ैसलों में ग्राहक को सर्वोपरि रखकर यह अभूतपूर्व बढ़ोतरी हासिल की. ग्राहकों के साथ रणनीतिक साझेदारी के कंपनी के दृष्टिकोण ने प्रमुख हितधारकों के साथ दीर्घकालिक जुड़ाव सुनिश्चित किया. लास्ट-माइल कनेक्टिविटी के ज़रिये एंड-टू-एंड समाधान प्रदान करने पर केंद्रित उच्च स्तर की परिचालन दक्षता प्रदान करने वाले विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचे में निवेश द्वारा समर्थित व्यवसाय मॉडल APSEZ कामयाबी से ग्राहकों को जीतने और अपनी बाज़ार हिस्सेदारी में सुधार करने में कामयाब रहा.

ये उपलब्धियां इसलिए भी विशेष हैं, क्योंकि इन्हें कई चुनौतियों के बावजूद हासिल किया गया – जैसे, लाल सागर संकट के चलते वैश्विक व्यापार में आया व्यवधान, रूस-यूक्रेन संघर्ष और पनामा नहर के मुद्दे से पैदा हुई दिक्कतें, और चक्रवात बिपरजॉय और चक्रवात मिचौंग के कारण संचालन में व्यवधान आना.

APSEZ ने इस वर्ष कई नई परिचालन उपलब्धियां हासिल की हैं. कंपनी का प्रमुख बंदरगाह मुंद्रा एक ही माह (अक्टूबर, 2023) में 16 MMT कार्गो संभालने वाला भारत का पहला बंदरगाह बना. इसके कंटेनर टर्मिनल CT-3 ने साल के दौरान 30 लाख TEU और एक ही माह (नवंबर, 2023) में लगभग 3 लाख TEU संभाला, और ऐसा करने वाला भारत का पहला कंटेनर टर्मिनल बना. इसने किसी भी भारतीय बंदरगाह पर अब तक के सबसे बड़े जहाज़ (लगभग 399 मीटर लंबे और 54 मीटर चौड़े) को खड़ा किया और एक ही जहाज़ MV MSC लिवोर्नो पर सबसे अधिक संख्या में TEU (16,569) को संभाला, जो राष्ट्रीय स्तर पर सर्वश्रेष्ठ 16,400 TEU को पार कर गया. इसने 3,938 जहाज़ों के अपने ही पिछले रिकॉर्ड को पार करते हुए 4,300 से अधिक जहाज़ों को संभाला.

यह भी पढ़ें :-  Adani Green ने कहा- US में करप्शन केस में थर्ड पार्टी की हो रही जांच, हमारा उससे कोई संबंध नहीं

कंटेनर सेगमेंट में मुंद्रा, हजीरा, कट्टुपल्ली और एन्नौर बंदरगाहों ने रिकॉर्ड वॉल्यूम संभाला. भारत में कंटेनर के ज़रिये आने वाले समुद्री कार्गो का लगभग 44 फ़ीसदी APSEZ बंदरगाहों के माध्यम से आता-जाता है. ड्राई कार्गो सेगमेंट में ट्यूना, मर्मुगाओ, कराईकल, कृष्णापट्टनम, गंगावरम और धामरा जैसे बंदरगाहों ने इस वित्तवर्ष में रिकॉर्ड वॉल्यूम संभाला. धामरा ने अपने पहले LNG-संचालित केप-आकार जहाज़ MV उबंटू यूनिटी को खड़ा किया, जबकि कृष्णापट्टनम ने LOA 335.9 मीटर और बीम 42.9 मीटर के आकार वाले अब तक के सबसे बड़े जहाज़ को बर्थ किया. तरल कार्गो के मामले में मुंद्रा, कट्टुपल्ली, कृष्णापट्टनम और धामरा ने रिकॉर्ड वॉल्यूम संभाला.

(Disclaimer: New Delhi Television is a subsidiary of AMG Media Networks Limited, an Adani Group Company.)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button