दुनिया

बिलावल भुट्टो की PPP में गठबंधन सरकार में शामिल होने और विपक्ष में बैठने के मुद्दे पर है अलग राय

फाइल फोटो

कराची:

बिलावल भुट्टो के नेतृत्व वाली पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) में गठबंधन सरकार में शामिल होने और विपक्ष में बैठने के मुद्दे पर अलग-अलग राय है. पाकिस्तान में हाल में संपन्न संसदीय चुनाव में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी पीपीपी की केंद्रीय कार्यकारी समिति (सीईसी) ने चुनाव के बाद के परिदृश्य और गठबंधन के प्रस्तावों पर विचार-विमर्श करने के लिए इस्लामाबाद में बैठक की. इस बैठक में तय किया गया इमरान खान की पीटीआई समर्थित निर्दलीयों सहित सभी राजनीतिक दलों से, सत्ता साझा करने के संभावित समझौते के लिए संपर्क किया जाएगा.

यह भी पढ़ें

सोमवार रात सीईसी की बैठक के बाद एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सीनेटर शेरी रहमान ने कहा, ‘पीपीपी सभी (राजनीतिक) पार्टियों से संपर्क करेगी और एक समिति का गठन किया जाएगा.’ समिति का गठन मंगलवार को किया जाएगा, वहीं सीईसी की बैठक दोपहर तीन बजे दोबारा शुरू होगी. पार्टी के एक बेहद विश्वसनीय सूत्र ने कहा कि सोमवार को हुई पार्टी की केंद्रीय कार्यकारी समिति की बैठक का मुख्य कारण यही था.

वे इस बात पर अंतिम निर्णय पर पहुंचने में विफल रहे कि पीपीपी पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के नेतृत्व वाली पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के साथ गठबंधन सरकार बनाए या पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के टिकट पर निर्वाचित निर्दलीय विधायकों के साथ विपक्ष में बैठे. सूत्र ने कहा, ‘पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) आसिफ जरदारी पर सत्ता-साझाकरण पर सहमत होने के लिए दबाव डाल रही है, जहां प्रधानमंत्री पद साझा करने पर भी चर्चा हुई है.’

यह भी पढ़ें :-  US Winter Strom: अमेरिका में तूफान के बाद 2,000 से अधिक उड़ानें रद्द, एयरपोर्ट पर फंसे सैकड़ों लोग

उनके अनुसार, यह बातचीत चल रही है कि आधे कार्यकाल तक शहबाज शरीफ प्रधानमंत्री बने रहें और फिर शेष कार्यकाल में बिलावल भुट्टो यह जिम्मेदारी संभालें. सूत्र ने पुष्टि की कि विदेश मंत्री, गृह मंत्री, वित्त मंत्री और पाकिस्तान के सबसे बड़े प्रांत पंजाब के मुख्यमंत्री जैसे प्रमुख पदों के लिए किन लोगों को नामित किया जाएगा, इस पर अभी भी मतभेद है.

(इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button