देश

जहाज बचाव पर मोदी को बुल्गारिया के राष्ट्रपति के संदेश को सबसे ज्यादा बार देखा गया

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

भारतीय नौसेना के बुल्गारिया के जहाज और उसके चालक दल को बचाए जाने के बाद बुल्गारिया के राष्ट्रपति रूमेन रादेव द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार जताने वाले संदेश ने सोशल मीडिया पर उपयोगकर्ताओं का खासा ध्यान आकर्षित किया है. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि रादेव के इस पोस्ट को अब तक उनके किसी भी पोस्ट की तुलना में सबसे ज्यादा बार देखा गया और रीपोस्ट किया गया. अधिकारियों कहा कि 18 मार्च को बुल्गारिया के राष्ट्रपति के संदेश को अब तक 20 लाख से अधिक बार देखा गया और इसे 24,000 लाइक मिल चुके हैं तथा इसे 5,400 बार रीपोस्ट किया गया.

यह भी पढ़ें

एक अधिकारी ने कहा, “बुल्गारिया के राष्ट्रपति द्वारा किए गए सभी पोस्ट की तुलना में इस पोस्ट पर उपयोगकर्ताओं ने सबसे अधिक दिलचस्पी दिखाई. उनकी दूसरी सबसे ज्यादा देखी गई पोस्ट को लगभग 57 हजार व्यूज, 74 लाइक्स और 87 रीपोस्ट मिले हैं.” उन्होंने कहा, “रादेव के हैंडल से अधिकांश पोस्ट को औसतन 100 से कम लाइक और 10-15 रीपोस्ट मिले हैं, जिन्हें 15,000 से अधिक बार नहीं देखा गया है”.

रादेव ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा था, “बुल्गारिया के अपहृत जहाज ‘रुएन’ और सात बुल्गारियाई नागरिकों समेत उसके चालक दल को भारतीय नौसेना द्वारा बचाने की बहादुरी भरी कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का हार्दिक आभार.”

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मोदी ने कहा कि भारत नौवहन की स्वतंत्रता की रक्षा करने और हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री डकैती और आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए प्रतिबद्ध है.

यह भी पढ़ें :-  भारत ने हवा से सतह पर मार करने वाली Rudram-II का किया सफल परीक्षण, जानें क्या हैं खासियत

प्रधानमंत्री ने कहा, “हमें खुशी है कि बुल्गारिया के सातों नागरिक सुरक्षित हैं और जल्द ही घर लौटेंगे. भारत नौवहन की स्वतंत्रता की रक्षा करने और हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री डकैती और आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए प्रतिबद्ध है.”

यह भी पढ़ें : PM मोदी ने 7 बुल्गारियन नागरिकों को बचाने पर जताई खुशी, बोले-आतंकवाद से निपटने के लिए प्रतिबद्ध

(इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button