छत्तीसगढ़

ब्लैकमेलिंग : कथित पत्रकारों के साथ सीए ने मिलकर राजधानी को बनाया अपना गढ़?…

छत्तीसगढ़। आज कल फर्जीवाड़ा का कारोबार बड़े पैमाने पर होने लगा है। सीए समाज का एक प्रतिष्ठित पद माना जाता है वहीं एक अच्छे वर्ग में सीए को माना जाता है वही राजधानी के एक सीए की चर्चा बड़े जोरो पर बनी हुई है। समाज मे एक तरफ सीए देश की अच्छी अर्थव्यवस्था बनाने में लगा रहता है वही इस एक सीए ने लूटपाट व ब्लैकमेलिंग का कारोबार करने में उतारू है।अपनी मोटी कमाई के चक्कर मे अफसरों को धमकाने का काम भी बखूबी तरीके से कर रहा है। राजधानी में फर्जी पत्रकारिता करने वाले को अपने साथ रखकर आरटीआई लगवाकर अपनी दुकान चला रहा है।

अफसरों को धमकाने का काम करने से भी यह लोग बाज नही आते है।राजधानी के एक सीए ने अपनी बंद होती दुकान को बचाने के लिए अपने पाले हुए कथित फर्जी पत्रकार के नाम से अफसरों को डराने का काम सुनियोजित तरीके से काम को अंजाम देने का गुणाभाग लगाने में लगे है।व्यवसायिक लोगो को डराने का काम करके मोटी रकम की वसूली भी करते आ रहा है। कथित फर्जी पत्रकार दल्ला बनकर अपने सीए मालिक के आदेश का पूरा पालन करता है। अफसरों के नाम से उलजुलूल सवालों को बनाकर मदमस्त सीए बनाकर देता है जिसको कथित पत्रकार शासकीय कार्यालयों में जाकर लगाता है। इन दोनों की जोड़ी की चर्चा आज कल राजधानी में बनी हुई है। कथित फर्जी पत्रकार अपना यूट्यूब चैनल बनाया हुआ है। अनपढ़ अज्ञानी पत्रकार के यूट्यूब चैनल में वीडियो की संख्या नही के बराबर है।

देखा जाए तो यह यूट्यूब चैनल केवल ब्लैकमेलिंग के लिए सीए ने बनवाया है। इस यूट्यूब चैनल में वीडियो बनाकर वसूली का काम सीए और फर्जी पत्रकार करते आ रहे है। इस फर्जी पत्रकार को नेताओ व अफसरों के बंगले में भीख मांगते इसको देखा जा सकता है।इसकी यही दुकानदारी है अपने आपको पत्रकार बताकर शासकीय अफसरों के पास खाना खाने के लिए पैसा मांगते भी देखा जा सकता है।इस कथित फर्जी पत्रकार के यूट्यूब चैनल में 50 सब्सक्राइबर भी नही है।और यह अपने आपको पत्रकार बताकर अपनी वसूली की दुकान चलाते आ रहा है।

यह भी पढ़ें :-  किसानों और आदिवासियों की तकलीफ कभी नहीं पूछते पीएम मोदी : सीएम भूपेश बघेल

कुल मिलाकर सीए संगठन को इस मामले में कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए। ऐसे ठगराज सीए को तत्काल अपने संगठन से अलग करने के साथ ही इसका लाइसेंस भी रद्द करना चाहिए। साथ ही जनसंपर्क कार्यालय को भी ऐसे फर्जी पत्रकार पर भी मामला पंजीबद्ध करने की आवश्यकता है।

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button