देश

कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार, फिर भी लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए नहीं मिल रहे उम्मीदवार

कर्नाटक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे का गृह राज्य है. सूत्रों ने The Hindkeshariको बताया कि राज्य के कई मंत्री पहले ही चुनाव लड़ने के अनुरोध को ठुकरा चुके हैं. सूत्रों के मुताबिक, कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार में कोई भी मंत्री पद छोड़कर अनिश्चितता में गोता लगाने का इच्छुक नहीं है.

सरकार में आए तो 30 लाख सरकारी नौकरियां, राहुल गांधी ने युवाओं को दीं 5 गारंटी

2019 के आम चुनाव में बीजेपी ने राज्य में जीती 25 सीटें

2019 के आम चुनाव में कर्नाटक में बीजेपी ने 25 सीटें जीती थी. कांग्रेस ने यहां एक ही सीट मिली. एचडी कुमारस्वामी की जनता दल सेक्युलर (JDS) के खाते में एक सीट गई. JDS अब बीजेपी के साथ हो गए हैं. एक सीट बीजेपी समर्थित निर्दलीय के खाते में गई थी.

2023 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली शानदार जीत

2023 में कर्नाटक में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की. राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को मिले अच्छे रिस्पॉन्स से कांग्रेस इस बार कांग्रेस लोकसभा चुनाव में किस्मत बदलने की उम्मीद कर रही है. लेकिन पार्टी के नेता साथ नहीं देना चाहते हैं.

“याद रखना मेरा नाम…” : अजित पवार गुट के विधायक को शरद पवार की चेतावनी

इन नेताओं को चुनाव लड़वाना चाहती है कांग्रेस

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व चाहता है कि सिद्धारमैया सरकार के मंत्री राज्य की 28 लोकसभा सीटों में से कुछ पर चुनाव लड़ें. केंद्रीय नेताओं की लिस्ट में शामिल मंत्रियों में सतीश जारकीहोली, बी नागेंद्र, कृष्णा बायरे गौड़ा, के एच मुनियप्पा, एच के पाटिल और ईश्वर खंड्रे शामिल हैं. 

यह भी पढ़ें :-  जातिगत जनगणना को लेकर कांग्रेस की राह पर भाजपा, दोनों दल 'PDA' की ताकत से वाकिफ : अखिलेश यादव

लक्ष्मी हेब्बालकर ने भी चुनाव लड़ने से किया इनकार

सूत्रों ने कहा कि ये नहीं लोकसभा चुनाव लड़ने में दिलचस्पी नहीं रखते. लक्ष्मी हेब्बालकर समेत कई लोगों ने 2024 का चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है. सिद्धारमैया सरकार में महिला व बाल विकास मंत्री सुश्री हेब्बालकर ने कहा कि वह चाहती हैं कि उनका बेटा मृणाल हेब्बालकर चुनाव लड़े. हेब्बालकर ने कहा, “यह बेलगावी के लोगों और यहां के नेताओं की आशा है, जो मेरे नाम की सिफारिश की गई है.”

लोकसभा चुनाव : मल्लिकार्जुन खरगे के दामाद गुलबर्गा सीट से कांग्रेस टिकट के प्रमुख दावेदार

उन्होंने कहा, “मुझे मीडिया से पता चला है…जब मेरे भाई को विधान परिषद का सदस्य बनाने के लिए चुना गया था, तब भी जिले के सभी नेताओं ने मिलकर यह निर्णय लिया था.”

समाज कल्याण मंत्री ने भी आलाकमान किया मना

दूसरी तरफ, समाज कल्याण मंत्री एससी महादेवप्पा ने बिना कोई कारण बताए चुनाव लड़ने से साफ इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा, “मैं लोकसभा उम्मीदवार नहीं हूं. मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा. कांग्रेस आलाकमान जिसे भी टिकट देगा, मैं उसकी जीत के लिए प्रयास करूंगा.”

सख्त रुख अपना सकती है कांग्रेस

सूत्रों ने कहा कि पार्टी इस मुद्दे पर सख्त रुख अपनाने जा रही है. राज्य पार्टी प्रमुख डीके शिवकुमार ने कहा, “पार्टी आलाकमान जो भी फैसला करेगा, उसे सभी को स्वीकार करना होगा. यहां तक ​​कि मुझे भी इसे स्वीकार करना होगा. हम सभी पार्टी के कारण यहां हैं. हर कोई फैसले को स्वीकार करेगा और हम अधिकांश सीटें जीतेंगे.”

यह भी पढ़ें :-  रेलवे में नौकरी के बदले जमीन घोटाला मामले में तेजस्वी यादव से ईडी की पूछताछ जारी

वहीं, राज्य के इंचार्ज और कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा, “अभी तक सिर्फ एक मंत्री को चुनाव लड़ने के लिए कहा गया है. उन्होंने इस मामले पर विचार करने के लिए आलाकमान से समय मांगा है.”

“यूपी की जनता उनके शब्द भूली नहीं है” : राहुल गांधी के अमेठी से चुनाव लड़ने को लेकर अनुराग ठाकुर

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button