देश

NDA में बिहार पर सहमति, JDU से ज्यादा सीटों पर लड़ेगी BJP, चिराग को 5 सीटें

बीजेपी ने बिहार की 40 सीटों को साधने के लिए हाल ही में चिराग पासवान (Chirag Paswan) के साथ बड़ी डील की. बीजेपी ने चिराग पासवान के नेतृत्व वाली लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास (LJP-R) को हाजीपुर समेत 5 सीटें देने की बात कही थी. इसके लिए चिराग के चाचा और मौजूदा केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस को भी दरकिनार कर दिया था. सीट शेयरिंग के अनाउंसमेंट के दौरान चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस की पार्टी को एक भी सीट नहीं दी गई है. प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी उनकी पार्टी का कोई भी नेता नहीं था.

पहले चाचा पर दिखाया भरोसा, अब भतीजे पड़ रहे भारी… अचानक BJP के लिए इतने जरूरी क्यों हो गए चिराग पासवान

BJP बिहार की इन 17 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

बीजेपी औरंगाबाद, मधुबनी, अरिरया, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, महाराजगंज, सारण, उजियारपुर, बेगूसराय, नवादा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण और सासाराम से चुनाव लड़ेगी.

JDU इन 16 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

नीतीश कुमार की जेडीयू वाल्मिकीनगर, सीतामढ़ी, झंझारपुर, सुपौल, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, मधेपुरा, गोपालगंज, सिवान, भागलपुर, बांका, मुंगेर, नालंदा, जहानाबाद और शिवहर से उम्मीदवार उतारेगी.

चिराग पासवान की पार्टी इन 5 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी बिहार की वैशाली, हाजीपुर, समस्तीपुर, खगड़िया और जमुई से चुनाव लड़ेगी.

जीतन राम मांझी की पार्टी HAM

जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (HAM) गया से अपना उम्मीदवार उतारेगी. 

उपेंद्र कुशवाहा को मिली काराकाट सीट

उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक मोर्चा काराकाट से ताल ठोकेगी.

चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (R) के प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हमें 5 सीटें मिली हैं. जेडीयू के संजय झा ने कहा कि सारा अलायंस फिक्स हो गया है. दूसरे सीट मे कोई फाइनल बात हो पाई है. 2019 में जब हमलोग लड़ रहे थे, तो किसी भी सीट में 2 लाख से कम की मार्जिन नहीं थी. अभी तो सब कुछ वन वे है. कहीं कुछ है नहीं है. डबल इंजन की सरकार में बिहार में बड़ा काम होगा. आने वाले चुनाव में बिहार 40 में 40 सीटे एनडीए जीतेगी.

बिहार में अब बड़े भाई की भूमिका में बीजेपी

बिहार में बीजेपी अब विधिवत रूप से बड़े भाई की भूमिका में आ जाएगा. इस बार वो जनता दल यूनाइटेड से एक सीट अधिक लड़ रही है. इसकी विधायकों की संख्या भी अधिक हैं और उसके मंत्री भी ज्यादा हैं. बीजेपी और जेडीयू ने 2019 के चुनाव में बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ा था. 2014 के इलेक्शन में दोनों पार्टियां सामने-आमने थी, तब कोई गठबंधन नहीं था. उसके पहले 2009 के चुनाव में जनता दल यूनाइटेड ने 25 सीटों पर कैंडिडेट उतारे थे. जबकि बीजेपी ने 15 सीटों पर ताल ठोकी थी. 

यह भी पढ़ें :-  VIDEO: ट्रेन में सफर कर रहे थे किसान नेता, ठंड लगी तो समर्थकों ने अंदर ही सुलगाई अंगीठी

नेहरू की विरासत फूलपुर सीट से BJP किसे उतारेगी? बेलगावी और छत्रपति संभाजीनगर में किसे मिलेगा मौका

जीतन राम मांझी को बीजेपी ने इसलिए किया सेट

बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद से ही हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) पार्टी के प्रमुख जीतन राम मांझी बिहार में दो मंत्री पद और 2 लोकसभा सीट की मांग कर रहे थे. इसे लेकर मांझी ने पिछले दिनों अपने बयानों से बीजेपी पर दबाव बनाने की भी कोशिश की, जिसके बाद बीजेपी के लिए मांझी को सेट करना सबसे जरूरी हो गया था. वहीं, उपेंद्र कुशवाहा भी बीजेपी पर दवाब बना रहे थे. पार्टी ने पहले नीतीश कुमार को साधा फिर चिराग पासवान को टारगेट कर कुशवाहा को भी सेट कर लिया.

 

BJP-JJP ने ‘सीक्रेट डील’ से तोड़ा गठबंधन? क्या वाकई बिगड़े रिश्ते या कांग्रेस का बिगाड़ना है ‘खेल’

बिहार में कब-कब होगी वोटिंग?

बिहार में लोकसभा की 40 लोकसभा सीटों पर 7 चरणों में वोटिंग होगी:-

-पहले फेज में 19 अप्रैल को औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई में वोटिंग होगी. 

-दूसरे फेज में किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर और बांका में 26 अप्रैल को मतदान होगा. 

-तीसरे फेज में झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, खगड़िया में वोट डाले जाएंगे. 

-चौथे फेज में दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर में इलेक्शन होंगे. 

-पांचवें फेज में सीतामढ़ी, मुधबनी, मुजफ्फरपुर, सारण और हाजीपुर में वोट पड़ेंगे.

-छठें फेज में वाल्मिकी नगर, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, महाराजगंज और सीवान में मतदान होंगे.

-सबसे आखिरी फेज 1 जून को नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकाट, जहानाबाद में वोट डाले जाएंगे.

-इसके अलावा भोजपुर की अगिआंव विधानसभा सीट पर सातवें फेज में उपचुनाव होगा. यह सीट माले विधायक मनोज मंजिल को हत्या मामले में सजा होने की वजह से खाली हुई है.

यह भी पढ़ें :-  कर्नाटक उच्च न्यायालय ने ‘खतरनाक कुत्तों’ पर पाबंदी लगाने वाले केंद्र के निर्देश को पलटा


बता दें कि इस बार बिहार में मुकाबला दिलचस्प होने वाला है. जीतन राम मांझी और उपेंद्र कुशवाहा महागठबंधन का साथ छोड़ एनडीए के कुनबे में शामिल हो गए हैं. वहीं, महागठबंधन का आकार सिमट कर छोटा हो गया है. अब इसमें कांग्रेस-आरजेडी के साथ लेफ्ट रह गई है.

 

चाचा बनाम भतीजा : हाजीपुर सीट पर केंद्रीय मंत्री पारस ने भी ठोकी ताल, क्या चिराग मान जाएंगे?

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button