देश

अदाणी का नाम लेने पर कोर्ट ने लगाई आप सांसद संजय सिंह को फटकार

संजय सिंह को शराब नीति में मनी लांड्रिंग के आरोप में 4 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था

नई दिल्‍ली :

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह की शुक्रवार को अदालत में पेशी के दौरान कुछ ऐसा हुआ कि जज नाराज हो गए और उन्होंने संजय सिंह को यहां तक कह दिया कि अगर ऐसा ही है, तो यहां आने की जरूरत नहीं है. दरअसल, दिल्ली की राउज़ एवेन्यू की विशेष अदालत ने शुक्रवार को 14 दिन की न्यायिक हियासत में भेज दिया. संजय सिंह को ED ने दिल्ली की शराब नीति में मनी लांड्रिंग के आरोप में 4 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था.

यह भी पढ़ें

अदालत ने जब 27 अक्टूबर को संजय सिंह की पेशी की अगली तारीख तय की और संजय सिंह को खुद अपनी बात रखने का मौका दिया तो संजय सिंह ने ED से लेकर अदाणी तक पर आरोप लगाने और सवाल उठाने शुरू कर दिए. संजय सिंह ने कहा, “ईडी ने 8 दिन की कस्टडी में मुश्किल से 2-3 घंटे पूछताछ की और केवल एक आदमी से आमना-सामना करवाया. आप उनके सवाल देखिए, कैसे-कैसे पूछ रहे हैं. पूछ रहे हैं कि मैं अपनी मां को पैसे क्यों दिए, किसी की मदद के लिए पैसे क्यों दिए…?’

संजय सिंह ने कहा, “अगर उनकी मंशा जांच करनी होती, तो गंभीरता से करते…ये एंटरटेनमेंट डिपार्टमेंट बन गया है.” इस पर जज एमके नागपाल ने कहा की आपसे रोज पूछताछ हुई है.

संजय सिंह यहीं नहीं रुके, उन्‍होंने जज से कहा, “मैंने अदाणी के घोटाले की जांच के लिए याचिका दी थी, लेकिन कोई जांच नहीं की गई.”

यह भी पढ़ें :-  "जैसे ही अयोध्या मंदिर के दरवाजे खुलें, इसे ज्ञान-शांति का प्रवेश द्वार...": प्राण प्रतिष्‍ठा से पहले गौतम अदाणी

संजय सिंह की बात सुनकर जज एमके नागपाल नाराज हो गए और उन्होंने कहा, “ये पूरी तरह से असंबंधित मामला है… अगर (पीएम नरेंद्र) मोदी या अदाणी के लिए कुछ बोलना है, तो इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती. केस से जुड़ा कुछ बोलना है तो ठीक है, लेकिन राजनीतिक भाषण देने की इजाजत नहीं दी जा सकती. अगर आपको यही करना है, तो यहां आने की जरूरत नहीं है. आपकी पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भी करवाई जा सकती है.”

आपको बता दें इससे पहले 10 अक्टूबर को अदालत में सुनवाई के दौरान जज ने कहा था क‍ि संजय सिंह को मीडिया में बयानबाज़ी से बचना चाहिए.

ये भी पढ़ें :-

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button