दुनिया

"आक्रोश का दिन": गाजा के अस्पताल पर हमले के बाद अरब देशों में इजरायल के खिलाफ शुरू हुए विरोध प्रदर्शन

गाजा के अस्पताल में हमले के बाद लेबनान, जॉर्डन, लीबिया, यमन, ट्यूनीशिया, तुर्की, मोरक्को, ईरान और इजरायल के कब्जे वाले वेस्ट बैंक में लोगों ने विरोध प्रदर्शन किए और रैलियां निकाली. पूरे क्षेत्र में गुरुवार को Day of Rage यानी आक्रोश दिवस ​​​​की अपील की गई है.

इजरायल और फिलिस्तीन ने मंगलवार की रात को गाजा के अस्पताल पर हुए भीषण हमले के लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहराया है. इस बीच इजरायली सेना ने बुधवार को कहा कि उसके पास पर्याप्त सबूत हैं, जो साबित करते हैं कि इस हमले के लिए फिलिस्तीन के आतंकी जिम्मेदार थे.

UAE और बहरीन ने इजरायल को दोषी ठहराया

वहीं, संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और बहरीन ने इस हमले के लिए इजरायल को जिम्मेदार ठहराया. दोनों देशों ने कहा कि ये हमला तब हुआ, जब इजरायल ने गाजा की घेराबंदी की. यूएई और बहरीन ने 2020 के अब्राहम समझौते में इजरायल के साथ रिश्ते बेहतर करने की बात कही थी.

UAE की आधिकारिक WAM न्यूज एजेंसी ने बुधवार को कहा, “संयुक्त अरब अमीरात इजरायली हमले की कड़ी निंदा करता है… जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए और घायल हुए.” वहीं, बहरीन की न्यूज एजेंसी ने कहा, “बहरीन के विदेश मंत्रालय ने इजरायली बमबारी की कड़ी निंदा की है.” 2020 में इजरायल को मान्यता देने वाले एक अन्य देश मोरक्को ने भी हमले के लिए इजरायल को दोषी ठहराया. 

इजरायल के सबसे करीबी दोस्त इजिप्ट ने भी की निंदा

वहीं, इजरायल के सबसे करीबी दोस्त इजिप्ट के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी ने अहली अरब अस्पताल पर बमबारी की कड़े शब्दों में निंदा की. उन्होंने ‘जानबूझकर की गई बमबारी’ को अंतरराष्ट्रीय कानून का स्पष्ट उल्लंघन बताया.

यह भी पढ़ें :-  फिर अमेरिका में भारतीय मूल के छात्र का मिला शव, एक सप्ताह में इस तरह की तीसरी घटना

सऊदी ने खत्म कर दी इजरायल से बातचीत

इजरायल-हमास के बीच जंग की शुरुआत के बाद से सऊदी अरब ने इजरायल के साथ संभावित संबंधों पर बातचीत खत्म कर दी है. लेकिन गाजा के अस्पताल में हुए विस्फोट पर सऊदी ने अपनी प्रतिक्रिया दी. सऊदी ने कहा कि ये विस्फोट इजरायली फोर्स की ओर से किया गया जघन्य अपराध कहा.

‘वॉर क्राइम’

गाजा के अस्पताल में हमले पर जॉर्डन का भी रिएक्शन आया. जॉर्डन ने कहा कि इजराइल इस गंभीर घटना की जिम्मेदारी लेता है. जबकि हमास से करीबी रिश्ता रखने वाले कतर ने इस हमले को ‘क्रूर नरसंहार’ करार दिया. इस्लामिक कॉन्फ्रेंस संगठन ने भी इजरायल पर आरोप लगाते हुए इसे वॉर क्राइम, मानवता के खिलाफ अपराध और संगठित राज्य आतंकवाद कहा है.

इजरायली हमलों के दौरान हुआ था अस्पताल में विस्फोट

यह हमला फिलिस्तीनी संगठन हमास के हमले के बाद गाजा पर इजरायली हमलों के दौरान हुआ. लेबनान के ईरान समर्थित हिजबुल्लाह आतंकी संगठन ने इस हमले के विरोध में आक्रोश दिवस मनाने की अपील की. जबकि इराक ने हमले के लिए इजरायली अधिकारियों को दोषी ठहराया. इराक ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) से इजरायल के गाजा हमले को रोकने के लिए तत्काल समाधान की मांग की.

वहीं, अल्जीरिया ने इस हमले की निंदा करते हुए इसे कब्जे वाली ताकतों द्वारा किया गया बर्बर काम करार दिया. लीबिया की त्रिपोली स्थित अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सरकार ने इस हमले को “घृणित अपराध” करार दिया है.

ये भी पढ़ें:-

इज़राइली सेना ने गाजा अस्पताल पर बमबारी के पहले और बाद का फुटेज किया जारी

यह भी पढ़ें :-  "यह खत्म हो गया है, अब सरेंडर करें": हमास के लड़ाकों से बोले इजराइली पीएम नेतन्याहू

“मैं इस हमले से खासा दुखी हूं…”, गाजा के अस्पताल में हमले को लेकर जो बाइडेन समेत क्या कुछ बोले बड़े नेता

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button