दुनिया

इजरायली बंधकों की रिहाई के लिए इजिप्ट ने हमास चीफ पर बनाया था दबाव, सीजफायर तोड़ने की हुई थी कोशिश

समाचार एजेंसी ANI की रिपोर्ट के मुताबिक, जैसे ही इजरायल और हमास अपने अस्थायी युद्धविराम को दो दिनों के लिए बढ़ाने पर सहमत हुए मिस्र ने हमास नेता याह्या सिनवार पर भारी दबाव बनाना शुरू किया. काहिरा में आधिकारिक सर्कल तक पहुंच रखने वाले मिस्र के एक सूत्र ने ताज़पिट प्रेस सेवा को बताया, “सीजफायर के दौरान दो बार पार्टियां संकट में पड़ गईं. याह्या सिनवार ने समझौतों का उल्लंघन करने की कोशिश की. पहली बार पिछले शनिवार की रात मिस्र के खुफिया अधिकारी राफाह क्रॉसिंग पर पहुंचे. वहां सिनवार को कड़े शब्दों में चेतावनी दी गई थी.”

इजरायल-हमास के बीच 2 दिन बढ़ा सीजफायर, कतर और इजिप्ट ने मिलकर क्या करवाई डील?

उन्होंने कहा, “सिनवार को चेतावनी दिए जाने के कुछ घंटों बाद सीजफायर को 2 दिन बढ़ाने का ऐलान हुआ. फिर हमास ने देर रात इजरायली बंधकों को रिहा कर दिया.” हमास ने सोमवार देर रात 11 और इजरायली नागरिकों को रिहा कर दिया. इनमें 9 बच्चे और 2 महिलाएं शामिल हैं.

रविवार को जब इजरायल को यह स्पष्ट हो गया कि हमास की ओर से जारी किए गए इजरायली बंधकों की लिस्ट शर्तों के हिसाब से नहीं है, तो इजरायल ने तुरंत मिस्र से कॉन्टैक्ट किया. फिर मिस्र ने सिनवार पर दबाव बनाना शुरू किया. हमास ने शुरू में कतर के मध्यस्थता वाले अस्थायी युद्धविराम का उल्लंघन करते हुए बच्चों को उनकी मां के बिना रिहा करने की बात कही. बाद में मिस्र और कतर के दखल के बाद हमास ने अपना रुख साफ किया.

हमास ने नरम रुख अपनाते हुए दो बच्चों के स्थान पर दो महिलाओं के नाम जोड़ दिए. इसमें शर्त यह रखी गई कि कैदियों की अदला-बदली को आगे भी बढ़ावा दिया जाए. 

यह भी पढ़ें :-  अमेरिका में भारतीय छात्र की गोली मारकर हत्या, कार में मिला शव

गाजा में ‘कैद’ से 4 दिनों तक बचता रहा इजरायली युवा, हमास ने रूस को ‘खुश’ करने के लिए किया रिहा

इजरायल सुरक्षा एजेंसी (शिन बेट) के पूर्व डायरेक्टर एवी डिचर ने कई दिन पहले टीपीएस को बताया था, “कतर की सक्रिय भागीदारी के बावजूद आखिर में हमास के साथ सौदे मिस्र के दबाव में किए गए हैं. क्योंकि सिनवार मिस्र की ओर से बनाए जा रहे दबाव के प्रति सतर्क थे.” डिचर वर्तमान में कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री के रूप में कार्यरत हैं.

गाजा में इजरायली बंधकों से मिला था सिनवार

AFP की रिपोर्ट के मुताबिक, हमास ने अब तक जिन बंधकों को छोड़ा है, उनसे याह्या सिनवार ने बात की थी. सिनवार ने बंधकों से तब बात की थी जब उन्हें गाजा में कैद करके रखा गया था. हमास की कैद से छूट कर आने के बाद बंधकों ने यह खुलासा किया है. याह्या सिनवार ने हिब्रू भाषा में कहा था कि आप सभी सबसे सुरक्षित जगह पर हैं. यहां डरने वाली कोई बात नहीं है. 

हमास ने गाजा में बंधक बनाए गए 11 और लोगों को रिहा किया : इजरायली सेना

मंगलवार को हमास और इजरायल ने एक-दूसरे पर सीजफायर तोड़ते हुए हमले करने का आरोप लगाया है. हालांकि, दोनों ने ही इन आरोपों को खारिज किया है.

अब तक कितने बंधक और इजरायली कैदी हुए रिहा? 

इजरायल ने भी देश के अलग-अलग जेलों में बंद 30 बच्चों और 3 महिलाओं समेत 33 फिलिस्तीनियों को छोड़ दिया. AFP के मुताबिक, इजरायल ने अब तक अपनी जेलों से 150 फिलिस्तीनियों को रिहा किया. हमास ने 69 बंधकों को छोड़ा है. इनमें 50 इजरायली बंधक और 19 विदेशी नागरिक शामिल हैं. 

यह भी पढ़ें :-  मध्य-पूर्व में रूस का दबदबा दिखाने के लिए पुतिन का UAE और सऊदी अरब का दौरा

अभी और कितने बंधक होंगे रिहा?

अमेरिकी नेशनल सिक्योरिटी के स्पोक्सपर्सन जॉन किर्बी ने कहा कि सीजफायर के अगले दो दिन में हमास ने 20 महिलाओं और बच्चों को रिहा करने का वादा किया है. इजरायल ने कहा कि वो आने वाले 2 दिन में 50 फिलिस्तीनियों को रिहा करेगा.

जो बाइडेन ने अगले 2 दिन के लिए इजरायल- हमास के बीच संघर्ष विराम समझौते को बढ़ाने का स्वागत किया

जंग खत्म करना चाहता है हमास

अल जजीरा के मुताबिक, हमास लीडर गाजी हमद ने कहा, “मुझे उम्मीद है कि सीजफायर करके हम जल्द जंग खत्म कर पाएंगे. साथ ही इससे फिलिस्तीनी लोगों पर हो रहे हमलों को रोका जा सकेगा.”

गाजा में कैसे हैं हालात? 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस का कहना है कि गाजा के हाल हर दिन बदतर होते जा रहे हैं. वहां दो-चार दिन के सीजफायर नहीं, बल्कि जंग खत्म करने की जरूरत है. गुटेरेस ने कहा- “पूर्ण युद्धविराम गाजा की समस्याओं का हल है. यही लोगों के हित में भी है. हमास को भी बिना किसी शर्त सभी बंधकों को आजाद कर देना चाहिए.”

जंग में अब तक कितने लोगों की मौत?

अलजजीरा के मुताबिक, 53 दिनों से चल रही जंग में अब तक 15 हजार से ज्यादा फिलिस्तीनियों की मौत हो चुकी है. वहीं, हमास के हमले में करीब 1200 इजरायली मारे जा चुके हैं.

सीजफायर बढ़ना चाहिए या नहीं? जानें क्या है गाजा और इजरायल के लोगों की राय

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button