देश

किसानों का 'दिल्ली चलो' मार्च : इन रास्तों का करें इस्तेमाल, घर से निकलने से पहले जान लें रूट

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने यात्रियों के लिए विशेष दिशानिर्देश जारी किए हैं, 

पंजाब के प्रदर्शनकारी किसान (Farmer’s Protest In Delhi) अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आज दिल्ली कूच करने वाले हैं. किसान नेताओं के साथ केंद्रीय मंत्रियों की पांच घंटे से ज्यादा वक्त तक चली बैठक बेनतीजा रही. इस बैठक की जानकारी देते हुए एक किसान नेता ने कहा कि किसान मंगलवार से ‘दिल्ली मार्च’ शुरू करेंगे. दिल्ली चलो मार्च के कारण दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. दिल्ली पुलिस ने किसानों के मार्च को राजधानी में प्रवेश करने से रोकने के लिए हर संभव कदम उठाया है. सिंघु, टिकरी और ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात है. पुलिस ने सार्वजनिक बैठकों और शहर में प्रवेश करने वाले ट्रैक्टरों और ट्रॉलियों पर एक महीने का प्रतिबंध लगा दिया है. प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली में 12 मार्च तक सभी बड़ी सभाओं पर प्रतिबंध रहेगा. इन घटनाक्रमों को ध्यान में रखते हुए, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने यात्रियों के लिए विशेष दिशानिर्देश जारी किए हैं, 

ट्रैफिक एडवाइजरी की जानकारियां

  • ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे के जरिए मालवाहक वाहनों का दिल्ली में प्रवेश मना है.
  • मालवाहक वाहनों को परी चौक के रास्ते हरियाणा के सिरसा और उत्तर प्रदेश के सूरजपुर के बीच यात्रा करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है.
  • चिल्ला बॉर्डर से दिल्ली जाने के लिए सेक्टर 14ए फ्लाईओवर, राउंडअबाउट चौक, सेक्टर 15 से संदीप पेपर मिल चौक,से जाएं
  • डीएनडी बॉर्डर से दिल्ली जा रहे हैं: फिल्म सिटी से सेक्टर 18 होते हुए एलिवेटेड रोड का उपयोग करें.
  • यमुना एक्सप्रेसवे का उपयोग करके दिल्ली जा रहे हैं: जेवर टोल से खुर्जा की ओर उतरें और जहांगीरपुर होते हुए यात्रा करें.
  • सिरसा में, रणनीतिक रूप से 40 चेकपोस्ट स्थापित किए गए हैं,
  • पंजाब के बठिंडा से आने वाली सड़क को अस्थायी तौर पर सील कर दिया गया है.

सोमवार को दिल्ली पुलिस ने प्रस्तावित मार्च के मद्देनजर एक यातायात परामर्श जारी किया जिसमें यात्रियों को तीन सीमाओं पर वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध के बारे में सचेत किया गया.

परामर्श के अनुसार राष्ट्रीय राजमार्ग 44 के जरिए सोनीपत, पानीपत और करनाल की ओर जाने वाली अंतरराज्यीय बसों को आईएसबीटी से मजनू का टीला से सिग्नेचर ब्रिज से खजूरी चौक से लोनी बॉर्डर से खेकड़ा के रास्ते केएमपी तक जाने का निर्देश दिया गया है.

राष्ट्रीय राजमार्ग 44 से होकर सोनीपत, पानीपत और करनाल की ओर जाने वाले भारी मालवाहक वाहनों को सैदपुर चौकी होते हुए औचंदी सीमा से केएमपी तक पहुंचने के लिए डीएसआईआईडीसी चौराहे से हरीश चंदर अस्पताल चौराहे से बवाना रोड क्रॉसिंग होते हुए बवाना चौक होकर बवाना-औचंदी रोड तक पहुंचने के लिए दूसरा मार्ग लेने का सुझाव दिया गया है.

परामर्श में कहा गया है, ‘‘बहादुरगढ़ और रोहतक आदि की ओर जाने के इच्छुक भारी माल वाहनों को बाहरी रिंग रोड लेकर मुकरबा चौक से मधुबन चौक से भगवान महावीर रोड से रिठाला से पंसाली चौक से हेलीपैड से यूईआर-द्वितीय से कंझावला रोड-कराला टी प्वाइंट-कंझावला चौक से जौंती गांव होते हुए जौंती सीमा/निजामपुर सीमा तक और हरियाणा के गांव बामनोली में प्रवेश करने का सुझाव दिया गया है. इसके बाद वाहन आगे नाहरा-नाहरी रोड से बहादुरगढ़ रोड तक जा सकते हैं.”

इसी तरह से राष्ट्रीय राजमार्ग 44 के माध्यम से सोनीपत, पानीपत और करनाल की ओर जाने के इच्छुक कारों और हल्के माल वाहनों को अलीपुर कट से शनि मंदिर से पल्ला बख्तावरपुर रोड, वाई-प्वाइंट से दहिसरा गांव रोड, एमसीडी तक दो-लेन मार्ग से बाहर निकलने का सुझाव दिया गया है.

यह भी पढ़ें :-  विपक्ष ने महंगाई, गरीबी को लेकर सरकार पर साधा निशाना : कहा, लोकलुभावन तस्वीर पेश करना बंद करे

इसे भी पढ़ें- किसानों को रोकने के लिए बॉर्डर पर रातोंरात खड़ी हुई कंक्रीट की दीवार, सुरक्षा के इंतजाम सख्त

भाषा इनपुट के साथ


 

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button