देश

'संयुक्त किसान मोर्चा' नहीं है 'दिल्ली चलो मार्च' का हिस्सा, स्टेटमेंट जारी कर कही यह बात

नई दिल्ली:

संयुक्त किसान मोर्चा ने खुद को ‘दिल्ली चलो मार्च’ से अलग कर लिया है. दरअसल, संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा एक प्रेस स्टेटमेंट जारी की गई है, जिसमें उन्होंने बताया है कि 13 फरवरी को किसानों द्वारा आयोजित दिल्ली चलो मार्च से उनका कोई ताल्लुक नहीं है. हालांकि, संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि अन्य संगठनों को विरोध करने का अधिकार है और केंद्रीय सरकार को लोकतांत्रिक तरीके से उनके साथ पेश आना चाहिए. 

यह भी पढ़ें

इसके साथ ही अपनी प्रेस स्टेटमेंट में एसकेएम (SKM) ने पीएम मोदी से यह स्पष्ट करने का आग्रह किया कि उनकी सरकार लोगों की आजीविका की मांगों पर 16 फरवरी 2024 को देशव्यापी ग्रामीण बंद और औद्योगिक/क्षेत्रीय हड़ताल के संदर्भ में किसानों और श्रमिकों के मंच से चर्चा के लिए तैयार क्यों नहीं है? 

बता दें कि आज किसानों का ‘दिल्ली चलो मार्च’ है… इससे पहले सोमवार रात को किसान नेताओं की केंद्रीय मंत्रियों के साथ पांच घंटे से अधिक वक्त तक चली बैठक बेनतीजा रही थी. कई किसान संघों, जिनमें ज्यादातर उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब से हैं ने अपनी उपज के लिए एमएसपी की गारंटी देने वाले कानून की मांग के लिए मार्च का आह्वान किया है. एमएसपी की गारंटी वाला कानून बाजार की अनिश्चितताओं का सामना कर रहे किसानों के लिए अहम कदम होगा. 

वहीं दूसरी ओर दिल्ली पुलिस द्वारा किसानों क मार्च को राजधानी में प्रवेश करने से रोकने के लिए हर संभव कदम उठाया जा रहा है. सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात किए गए हैं. पुलिस ने सार्वजनिक बैठकों और शहर में प्रवेश करने वाले ट्रैक्टरों और ट्रॉलियों पर भी एक महीने का प्रतिबंध लगा दिया है. प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली में 12 मार्च तक सभी बड़ी सभाओं पर भी प्रतिबंध रहेगा.

यह भी पढ़ें :-  दिव्या पाहूजा मर्डर : पूछताछ में आरोपी बोला, रिलेशनशिप में थे हम, कर रही थी ब्लैकमेल- पुलिस सूत्र

यह भी पढ़ें : ‘दिल्ली चलो’ मार्च : चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात, राजधानी में धारा 144 लागू; ट्रैफिक एडवाइजरी जारी

यह भी पढ़ें : क्या हैं किसानों की प्रमुख मांगें… जिनके लिए शुरू किया ‘दिल्ली चलो’ मार्च

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button