दुनिया

इजरायल के होटल में गिरा हमास का रॉकेट, The Hindkeshariकी टीम ने बताया कैसे गुजरे दहशत के वो 10 मिनट

VIDEO : इजरायल के जिस होटल में रुकी थी The Hindkeshariकी टीम, उस पर गिरा रॉकेट, बंकर में ली शरण


फुटेज में The Hindkeshariकी टीम ने बताया, “एस्केलोन में होटल में एंट्री के दौरान रॉकेट हमला हुआ. यहां अच्छी-खासी तबाही मची है. रॉकेट गिरने के साथ ही आग लगी और धुआं-धुआं हो गया. सायरन बजते ही हमें बंकर में ले जाया गया. यहां और भी लोग हैं, जो डरे हुए हैं. फायर टेंडर आग बुझाने के काम में लग गए हैं. होटल की पार्किंग में खड़ी कुछ कारों को भी नुकसान पहुंचने की खबर है. The Hindkeshariकी टीम जिस व्हीकल का इस्तेमाल कर रही थी, वो भी डैमेज हो गया है.” घटनास्थल से सामने आई तस्वीरों में परिसर में एक बड़ा गड्ढा, बालकनी में टूटी रेलिंग और लॉबी में मलबा दिखाई दे रहा है.

The Hindkeshariकी टीम ने बंकर से निकलकर होटल में हुए नुकसान का जायजा लिया. टीम ने बताया, “बार-बार धमकी दी गई थी कि शाम 5 बजे के बाद हमला होगा. ठीक 5 बजे के बाद रॉकेट हमला हुआ. होटल में काफी नुकसान हुआ है. होटल के फ्रंट एरिया में खड़ी गाड़ी में आग लगी है. देखते ही देखते गाड़ी जलकर राख हो गई. शहर के किस हिस्से में क्या हुआ है, अभी इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पा रही है.”

“मोदी का चमत्कार”: हमास के साथ शांति के लिए भारत की ‘मध्यस्थता’ पर बोले इजरायली मिलिट्री इंटेलिजेंस के पूर्व प्रमुख

 

यह भी पढ़ें :-  युद्ध छिड़ते ही इजरायल ने सैनिकों को ड्यूटी पर वापस बुलाया, इस कपल ने रात को ही रचा ली शादी


इसी दौरान फिर से सायरन बजता है. इसके तुरंत बाद The Hindkeshariकी टीम को सेना दोबारा जल्दी से बंकर में जाने के लिए कहती है. क्योंकि शायद दूसरा रॉकेट हमला होने की आशंका है.

एस्केलॉन शहर की सनी ने The Hindkeshariको बताया कि फेस्टिवल के समय में अमूमन बिजी ट्रैफिक वाली इजरायल की सड़कें सुनी पड़ी हैं. हमास के हमलों की बीच लोग अपने घरों को छोड़कर बंकर में पनाह लिए हुए हैं. रॉकेट हमलों में कइयों के घर तबाह हो गए हैं. रह-रहकर आसमान में रॉकेट की गूंज सुनाई पड़ती हैं.

 हमास से लड़ने के लिए इजरायल में 1973 के बाद पहली बार बनेगी यूनिटी गवर्नमेंट, अब तक 1587 मौतें

 

एस्केलॉन शहर में रहने वालीं सनी ने कहा, “1980 के दशक के बाद जितने भी नए घर बने हैं, रिहाइशी इमारतें बनी हैं, उसमें सेफ प्लेस यानी बंकर बनाना अनिवार्य होगा. हमले के बीच लोग इन्हीं सेफ हाउस (बंकर) में दुबके हुए हैं.”


इजरायल-हमास के बीच 7 अक्टूबर से शुरू हुई इस जंग में अब तक 1600 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इजराइल में 40 नवजात बच्चों समेत 900 लोग मारे गए हैं, जबकि 2300 लोग घायल हैं. जबकि गाजा पट्टी में 140 बच्चों, 120 महिलाओं समेत 830 फिलिस्तीनी की जान जाने की खबर है. कई हजार घायल भी हुए हैं. इसके अलावा इजरायल की सेना ने अपने क्षेत्र में हमास के 1500 लड़ाकों को भी मार गिराने का दावा किया है. गाजा पट्टी और इजरायल के आसपास के इलाकों में इन लड़ाकों के शव बरामद हुए हैं. इजरायल के करीब 150 लोगों को हमास ने बंधक बनाकर गाजा में रखा है.

यह भी पढ़ें :-  क्‍या बदला है फिलिस्‍तीन को लेकर भारत का नजरिया, इज़रायल-हमास युद्ध को लेकर दिये गए बयान के मायने

इजरायल पर हुए हमास के हमले में किस देश के कितने नागरिकों की हुई मौत, कई बंधक या लापता

इस बीच हमास से लड़ने के लिए इजरायल में 1973 के बाद पहली बार यूनिटी गवर्नमेंट बनेगी. पीएम नेतन्याहू ने इसकी घोषणा की है. सत्ताधारी लिकुड पार्टी के गठबंधन ने इसकी हामी भर दी है. इसका मतलब ये है कि इजरायल में ऐसी सरकार बनेगी, जिसमें सभी पार्टियां शामिल होंगी. ऐसी यूनिटी गवर्नमेंट या वॉर कैबिनेट जंग के वक्त बनती है.

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button