देश

"उसने मुझे दबोच लिया".. : बेंगलुरु महिला ने उससे छेडछाड़ करने वाले शख्स का वीडियो किया शेयर

महिला द्वारा घटना का वीडियो सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म एक्स पर शेयर किया गया है.

नई दिल्ली:

बेंगलुरु की एक महिला ने बताया कि मंगलवार को उसके घर के पास एक शख्स ने उससे छेड़छाड़ की. एक्स पर एक पोस्ट शेयर करते हुए महिला ने कहा कि जब वह रात के वक्त अपने घर में जा रही थी, तभी शख्स पीछे से आया और उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा. 

यह भी पढ़ें

अपनी पोस्ट में महिला ने लिखा, “बीती रात मेरे एक दोस्त ने मुझे घर के पास छोड़ा था और मैं बस घर का दरवाजा खोलने ही जा रही थी कि पीछे से एक शख्स आया और उसने मुझे दबोच लिया. इसके बाद वह भागने लगा. मैंने तभी अपने दोस्त को फोन किया और बोला कि इससे पहले वह भाग जाए, उसे रोको.”

महिला द्वारा रिकॉर्ड किए गए वीडियो में शख्स अपना चेहरा छिपाते हुए दिख रहा है. महिला ने आरोप लगाया है कि शख्स ने उसके साथ छेड़छाड़ करने की बात कबूल की है. 

उसने बताया, “वीडियो में शख्स ने अपने द्वारा की गई हरकत को स्वीकार किया है. मेरा दोस्त उस वक्त वहां था और इस वजह से हम उसे पकड़ पाए. हम नहीं जानते कि अगर वो यहां नहीं होता तो यह शख्स कभी पकड़ा भी जाता कि नहीं. हमने तभी बेंगलुरु पुलिस को मौके पर बुलाया और पुलिस उसे जेल ले गई.” इसके साथ ही महिला ने कहा कि “शख्स न ही शराब के नशे में था और न ही वह बच्चा है और वह जानता था कि वो क्या कर रहा था. वो सिर्फ मुझ तक पहुंचने का मौका ढूंढ रहा था.”

यह भी पढ़ें :-  "सऊदी, फ़िलिस्तीनियों के साथ खड़ा है...": इज़राइल-गाज़ा युद्ध बढ़ने पर क्राउन प्रिंस

महिला ने लिखा कि वो शख्स के खिलाफ कोई एफआईआर दर्ज नहीं करा रही है क्योंकि यदि वह ऐसा करती है तो आत्मरक्षा में शख्स को चोट पहुंचाने के आरोप में उस पर ही मामला दर्ज हो जाएगा. महिला ने लिखा, “दुर्भाग्य से इस आदमी को फिर से छोड़ दिया गया है क्योंकि मैं एफआईआर नहीं करा रही हूं. हमारे संविधान में कानून ऐसे हैं जो #animals की सुरक्षा पर अधिक केंद्रित हैं और अगर मैंने आत्मरक्षा में उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया होता तो मुझ पर और अधिक आरोप लग जाते. यह बेहद शर्म की बात है. हैना?”

महिला ने यह भी आरोप लगाया कि भले ही उसने शख्स के खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं की, लेकिन उसने पुलिस के सामने मेरे साथ छेड़छाड़ करने की बात कबूल की थी. उसने लिखा, “इसे पोस्ट करने के पीछे का कारण जागरूकता फैलाना और संविधान की खामियों को उजागर करना है, जिनके कारण इस तरह के दरिंदे बच जाते हैं.”

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button