देश

2025 तक कैसे टीबी मुक्‍त होगा देश? MP में नहीं मिल रही दवा, बच्‍चों की मेडिसिन से चलाया जा रहा काम

नई दिल्‍ली :

एक बीमार के लिए सबसे बड़ी जरूरत दवा की होती है, लेकिन मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) में टीबी की दवा नहीं मिल रही है. यह हालात सूबे के दूरदराज के इलाकों के नहीं हैं, बल्कि यह पीड़ा है राजधानी भोपाल में अस्‍पतालों के चक्‍कर काटने वाले मरीजों की. दवा नहीं मिलने से मरीज परेशान हैं और ऐसे में कुछ न कुछ इंतजाम तो करना ही है, इसलिए डॉक्‍टर बड़े मरीजों को बच्‍चों की दवा की खुराक बढ़ाकर दे रहे हैं. उस पर परेशानी की बात ये है कि टीबी के मरीजों में ज्‍यादातर भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ित हैं.  

यह भी पढ़ें

टीबी के मरीजों को चार दवाओं की निश्चित खुराक 4FDC और 3FDC दी जाती है, आइसोनियाजिड + रिफैम्पिसिन + एथमबुटोल + पाइराज़िनामाइड (Isoniazid + Rifampicin + Ethambutol + Pyrazinamide) निश्चित खुराक कॉम्बिनेशन के रूप में. भोपाल में यह दवाएं उपलब्ध नहीं हैं, यही कारण है कि टीबी के मरीजों को पीडियाट्रिक यानी बच्चों के एफडीसी चार दिया जा रहा है.

टीबी के मरीजों की सबसे बड़ी परेशानी ये है कि यदि उन्‍होंने समय पर दवा नहीं ली तो छह महीने पहले जो उन्‍हें जो शिकायत थी वो एक बार फिर शुरू हो जाएगी. भोपाल के टीबी अस्पताल में आने वाले कई मरीजों ने 10-15 दिनों से दवाएं नहीं मिलने की बात बताई है.

केंद्र सरकार का देश को 2025 तक टीबी मुक्‍त करने का लक्ष्‍य है, लेकिन आंकड़ों से यह लक्ष्‍य दूर नजर आता है. आइए आंकड़ों के जरिए समझते हैं देश में टीबी के हालात. 

Latest and Breaking News on NDTV

मरीजों की अपनी कहानी है और अपना दर्द है. टीबी से पीड़ित नुसरत जहां कहती हैं कि वे गैस पीड़ित हैं. कुल सालों पहले ही उन्‍हें पता चला की उन्हें टीबी हो गई है. दवा मिल नहीं रही है, लेकिन डॉक्टर उन्हें बच्चों की दवा की खुराक बढ़ा कर दे रहे हैं. 

यह भी पढ़ें :-  "भारत को आपकी जरूरत है...": कांग्रेस ने नागपुर रैली में कुर्सी के पीछे क्यों लगाया बारकोड, जानें
उन्‍होंने कहा कि गले में गांठ की जांच कराई तो TB का पता चला 15 दिन से दवाई नहीं मिली है. हाथ पांव सुन्‍न रहते हैं, बुखार रहता है. बहुत तकलीफ हो रही है. मैं तो गैस पीड़ित भी हूं, कमर में दर्द है और कोई काम भी नहीं कर सकते इतनी बुरी हालत है. बच्चों की दवाई टीबी वालों की दे दी है. कह रहे हैं कि डबल डोज खालो सिर्फ 10 दिन की दवाई दी है. 

पुष्‍पा राजपूत भी इसी कारण परेशान हैं. उनका कहना है कि समय पर दवाएं मिल जाए तो अच्‍छा रहेगा, लेकिन डॉक्‍टर कहते हैं कि दवाई आएगी तो दे देंगे. 

पुष्‍पा राजपूत ने कहा कि घर में मेरे पति के अलावा कोई नहीं है. मुझे टीबी की शिकायत है, खांसी के दौरान खून भी आ रहा है. सीने में बहुत दर्द होता है. सांस लेने में दिक्‍कत हो रही है. एक महीने से दवाई नहीं मिली है. एक महीने से दवाई नहीं खाई है, पूरे शरीर में तकलीफ हो रही है. कहते हैं कि दवाई है ही नहीं. 

आसिफ खान की पत्‍नी भी टीबी की मरीज हैं. आसिफ बताते हैं कि जवाहरलाल नेहरू अस्‍पताल में इलाज चल रहा था. सर्जरी भी हुई है. छह महीने से तो दवा मिल रही थी, लेकिन पिछले 15 दिनों से नहीं. रोज कहते हैं कि दवा नहीं है और अगर दवाई नहीं है तो छह महीने पहले जो शिकायत थी वह एक बार‍ फिर शुरू हो जाएगी. रोजाना बहुत से पेशेंट आते हैं, लेकिन यही सुनने को मिलता है कि दवाई मौजूद नहीं है. इसी तरह का मामला शाहिद खान का भी है. शाहिद की दोनों बेटियों को टीबी है. दवा नहीं मिल रही है और 10 दिनों से वो दवा की तलाश में यहां से वहां भटक रहे हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

मरीजों की परेशानी पर डॉक्‍टर अनिल जैन ने कहा कि सभी दवाई दे रहे हैं. हमारे पास आदेश आ चुका है. मरीजों को दवाएं स्‍थानीय स्‍तर पर खरीदकर उपलब्‍ध कराएंगे. बच्चों की दवाई देने के संबंध में भी निर्देशों का पालन किया है. उससे अलग हम कुछ भी नहीं दे रहे हैं. 

यह भी पढ़ें :-  फर्जी कंपनियां, बेरोजगार मालिक : मध्यप्रदेश में कैसे काम करता था 500 करोड़ का हवाला रैकेट

इस मामले को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता रचना ढिंगरा ने कहा कि जिस तरह कोरोना की समस्या ने गैस पीड़ितों को ज्‍यादा परेशान किया था, उसी तरह टीबी की समस्या भी काफी है. गैस की वजह से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर असर हुआ है. पिछले कुछ महीनों से ऐसा माहौल है कि पूरे देश में टीबी की दवाइयां कम हुई हैं. भोपाल के  डॉट सेंटर में भी दवाएं नहीं आ रही हैं. ऐसे में सरकार को चाहिए कि वे लिस्ट बनाएं और ऐसी व्यवस्था बनाए की मरीजों खासकर गैस पीड़ितों की दवा एक भी दिन न छूटे. उन्‍होंने कहा कि यह एक तरह का टिकिंग बॉम है क्योंकि एक टीबी का मरीज एक ही दिन में 3-4 मरीजों को प्रभावित कर सकता है.

ये भी पढ़ें :

* MP : दो दिन पहले बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की मौत, CM ने जताया दुख, 2 अधिकारी निलंबित

* परिवारवादी गठबंधन का उद्देश्य अपने बेटे-बेटी और भतीजे को सत्ता दिलाना : अमित शाह का विपक्ष पर हमला

* वह दिन दूर नहीं, जब भारत होगा दुनिया का सुपर पावर : राजनाथ सिंह

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button