देश

राम दाना, वीगन फूड : CJI ने बताया डाइट के जरिए कैसे दिमाग पर रखते हैं कंट्रोल

नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ (Chief Justice DY Chandrachud) ने The Hindkeshariके साथ विशेष बातचीत में न्यायिक सुधार से लेकर अपने व्यक्तिगत जीवन के तमाम मुद्दों पर भी खुलकर बात की. डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि मुझे लगता है जो भी हम खाते हैं, उसका दिमाग पर असर पड़ता है. मुझे लगता है फिटनेस अंदर से आती है, आपके खुद के अंदर से, आपके दिमाग से, आपके दिल से. आप जितना चाहेंगे उतने फिट रहेंगे.

सीजेआई ने बताया, “मैं साबूदाना नहीं, राम दाना खाता हूं. पिछले 25 वर्ष से सोमवार का व्रत रखता हूं. महाराष्ट्र में राम दाना जरूर खाया जाता है. हम मराठी में लाया कहते हैं. ये बहुत हल्का खाना है लेकिन सबसे ज्यादा हेल्दी होती है.”

यह भी पढ़ें

 25 साल से योग कर रहे हैं सीजेआई

 सीजीआई ने बातचीत के दौरान बताया कि वह कैसे 25 साल से योगा और आयुर्वेदिक डाइट के जरिए खुद को फिट रखते हैं. उन्होंने कहा, “मेरा दिन सुबह 3.30 बजे शुरू हो जाता है. उस समय वातावरण शांत होता है, उस समय मैं चिंतन कर सकता हूं. मैं 25 साल से योग कर रहा हूं. मैं और मेरी पत्नी जो कि मेरी सबसे अच्छी दोस्त हैं, दोनों ही वीगन हैं. हम आयुर्वेदिक डाइट लेते हैं, हमारी लाइफस्टाइल प्लांट बेस है.”

“मैंने जिंदगी के हर एक पहलू को देखा है”

जिंदगी के अनुभवों के बारे में उन्होंने बताया, “मेरी जिंदगी भी दूसरों की तरह ऊंच-नीच से भरी रही है. मैंने जिंदगी के हर एक पहलू को देखा है. आपको हमेशा उम्मीद बनाए रखनी चाहिए. कैसी भी परेशानी हो, उससे ओवरकम करना चाहिए. हर कठिनाई के पीछे एक वजह होती है, उसे समझना जरूरी है. आपको उसके बारे तब पता नहीं चलेगा, कुछ दिनों के बाद में आपको पता चल जाएगा.”

यह भी पढ़ें :-  पूर्व झारखंड सीएम हेमंत सोरेन को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अंतरिम जमानत की मांग वाली याचिका पर सुनवाई से इनकार

सबको साथ लेकर चलने की है कोशिश : CJI 

CJI ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट में हम सभी मामलों को बहुत गंभीरता से लेते हैं. हो सकता है कि वो किसी के लिए छोटे मुद्दे हों, लेकिन हमारे लिए हर केस अपने आप में स्पेशन होता है. टेक्नोलॉजी के जमाने में हम सबको साथ लेकर चलने की कोशिश करते हैं. कोई पीछे ना छूटे, ये सुनिश्चित करने के लिए हमने ‘18000 ई- सेवा केंद्र’ बनाया है. जबकि ई- कोर्ट प्रोजेक्ट का मकसद सारी ई- सुविधाएं एक जगह पर मुहैया कराना है.”

ये भी पढ़ें- : 

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button