देश

ऐसे लोगों को चुन-चुन कर साफ कर दें, इनको मैदान में नहीं रहने दें : कांग्रेस पर पीएम मोदी का निशाना

प्रधानमंत्री ने कहा कि 60 साल तक देश पर राज करने वाले 10 साल सत्ता से बाहर रहते ही देश में आग लगाने की बात कर रहे हैं. उन्होंने जनता से पूछा, ‘‘क्या आग लगाने की बात आपको मंजूर है ? क्या आग लगाने की यह भाषा लोकतंत्र की भाषा ? ऐसे लोगों को सजा देंगे? ”

उन्होंने जनता से कहा, ”ऐसे लोगों को चुन-चुन कर साफ कर दें. इनको मैदान में नहीं रहने दें. ”

रविवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में ‘इंडी’ गठबंधन की रैली में गांधी ने कहा था कि अगर भाजपा ‘मैच फिक्सिंग’ के जरिए जीतती है और संविधान बदलती है तो देश में आग लग जाएगी और वह बचेगा नहीं.

मोदी ने आरोप लगाया कि इमरजेंसी की मानसिकता वाली कांग्रेस को लोकतंत्र पर भरोसा नहीं बचा है और इसलिए वह जनादेश के विरुद्ध लोगों को भड़काने में जुट गयी है.

उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस देश को अस्थिरता की तरफ ले जाना चाहती है और अराजकता में झोंकना चाहती है.

कर्नाटक के कांग्रेस नेता डी के सुरेश का नाम लिए बगैर प्रधानमंत्री ने निशाना साधते हुए कहा कि दक्षिण भारत को देश से अलग करने की बात कहने वाले अपने एक बड़े नेता को सजा देने की बजाय उसने उसे चुनाव में टिकट दे दिया.

विपक्ष पर भ्रष्टाचारियों को बचाने का आरोप लगाते हुए मोदी ने कहा, ‘तीसरे कार्यकाल में भ्रष्टाचार पर और तेज प्रहार होगा. यह गारंटी मैं आपको देने आया हूं.

उन्होंने कहा, ‘‘भ्रष्टाचार से हर गरीब का हक छिनता है, हर मध्यम वर्ग का हक छिनता है और मैं किसी गरीब या मध्यम वर्ग का हक किसी को छीनने नहीं दूंगा. ”

यह भी पढ़ें :-  राहुल गांधी की दोनों न्याय यात्रा 'कांग्रेस तोड़ो, कांग्रेस छोड़ो' साबित हुईं : शिवराज सिंह चौहान

मोदी ने कहा कि 2024 के चुनाव में स्पष्ट रूप से दो खेमे बन गए हैं. उन्होंने कहा कि एक तरफ हम लोग ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ जनता के सामने हैं जबकि दूसरी तरफ, भ्रष्टाचारी और परिवारवादी लोगों का जमावड़ा है.

उन्होंने कहा, ” ये भ्रष्टाचारी उन्हें धमकी दे रहे हैं, दिन-रात गाली दे रहे हैं. देखिए, क्या खेल चल रहा है. हम कहते हैं कि भ्रष्टाचार मिटाओ और वह कह रहे हैं कि भ्रष्टाचारी बचाओ. ”

प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड की जनता को याद दिलाया कि कांग्रेस ने देश के पहले रक्षा प्रमुख दिवंगत जनरल बिपिन रावत का भी अपमान किया था.

मोदी ने कहा कि कांग्रेस तुष्टिकरण के दलदल में ऐसी धंस गयी है कि कभी देशहित के बारे में सोच ही नहीं सकती. इस संबंध में उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस घुसपैठियों को तो बढ़ावा देती है] लेकिन जब भाजपा देश में आस्था रखने वाले शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देती है तो उसे तकलीफ होती है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए शरणार्थियों को नागरिकता देने का कांग्रेस विरोध कर रही है. उन्होंने कहा, ”कांग्रेस इसका कितना भी विरोध करे, इन लोगों के पास मोदी की गारंटी है. ”

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के ‘गुनाह’ का एक और ताजा उदाहरण सामने आया है जहां तमिलनाडु के पास समुद्र में स्थित ‘कच्चातिवु’ नाम के टापू को उसने अपने कार्यकाल में श्रीलंका को दे दिया. उन्होंने कहा कि भारतीय मछुआरे यदि गलती से भी उस द्वीप के आसपास चले जाते हैं तो उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाता है. उन्होंने पूछा, ”देश के टुकड़े करने वाली कांग्रेस क्या देश की रक्षा कर सकती है. ”

यह भी पढ़ें :-  राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना में कांग्रेस जीतेगी : सचिन पायलट
मोदी ने कहा कि आने वाले पांच साल अभूतपूर्व काम और बड़े फैसलों के लिए होंगे, लेकिन उसके लिए जनता को उन्हें और मजबूत करना होगा.

उन्होंने जनता से प्रदेश की पांच सीट पर एक बार भाजपा को विजयी बनाने का आग्रह करते हुए उनसे गांव-गांव जाकर मंदिरों में उनकी तरफ से माथा टेकने और लोगों से अपना प्रणाम कहने की भी अपील की.

उत्तराखंड के प्रति अपने अपनत्व का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षो में राज्य में जितना विकास हुआ, उतना आजादी के बाद के 60—65 वर्षों में भी नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि वर्तमान दशक उत्तराखंड का है और उसे सबसे आगे लेकर जाना है.

अपने नेतृत्व वाली सरकार द्वारा लागू की गयी योजनाओं से उत्तराखंड की जनता को हुए लाभ के आंकड़े पेश करते हुए उन्होंने कहा कि इतने सारे काम इसीलिए संभव हो पाए क्योंकि जब नीयत सही होती है तो नतीजे भी सही होते हैं.

मोदी ने कहा कि वह घर—घर में ‘सौर ऊर्जा’ पैनल योजना को बढ़ावा दिया जा रहा है जिससे न केवल लोगों को निशुल्क बिजली मिलेगी, बल्कि उनकी कमाई भी होगी.

प्रधानमंत्री ने कहा कि इतना सारा काम करने के बावजूद न तो वे थकते हैं और न ही रुकते हैं क्योंकि वह मौज करने के लिए नहीं बल्कि मेहनत करने के लिए जन्मे हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button