देश

"चंद्रयान-3 प्रक्षेपण यान का अनियंत्रित हिस्सा धरती के वातावरण में फिर लौटा": ISRO

चंद्रयान-3 का ऊपरी हिस्सा पृथ्वी के वायुमंडल में अनियंत्रित रूप से फिर प्रवेश कर गया

नई दिल्ली:

इस साल 14 जुलाई को चंद्रयान-3 अंतरिक्ष यान  (Chandrayaan-3)  को निर्धारित कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित करने वाले एलवीएम3 एम4 प्रक्षेपण यान का ‘क्रायोजेनिक’ ऊपरी हिस्सा बुधवार को पृथ्वी के वायुमंडल में अनियंत्रित रूप से पुनः प्रवेश कर गया. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने यह जानकारी दी. इसरो ने एक बयान में कहा, ‘संभावित प्रभाव बिंदु का अनुमान उत्तरी प्रशांत महासागर के ऊपर लगाया गया है. अंतिम ‘ग्राउंड ट्रैक’ (किसी ग्रह की सतह पर किसी विमान या उपग्रह के प्रक्षेप पथ के ठीक नीचे का पथ) भारत के ऊपर से नहीं गुजरा.’

यह भी पढ़ें

ये भी पढ़ें-चांद, सूर्य जीतने के बाद मंगल और शुक्र फतह करने की तैयारी में भारत, इस दिन की तैयारी में है इसरो

पृथ्वी के वायुमंडल में फिर लौटा चंद्रयान-3 का ‘क्रायोजेनिक’ 

इसरो ने बताया कि यह ‘रॉकेट बॉडी’ एलवीएम-3 एम4 प्रक्षेपण यान का हिस्सा थी. बुधवार को यह अंतरराष्ट्रीय समयानुसार दोपहर दो बजकर 42 मिनट के आसपास पृथ्वी के वायुमंडल में पुनः प्रवेश कर गया.  इसरो ने कहा कि रॉकेट बॉडी का पुन: प्रवेश इसके प्रक्षेपण के 124 दिनों के भीतर हुआ.

ऊपरी चरण भी किया गया निष्क्रिय

चंद्रयान -3 के प्रक्षेपण के बाद, संयुक्त राष्ट्र और आईएडीसी द्वारा निर्धारित अंतरिक्ष मलबे शमन दिशानिर्देशों के मुताबिक अचानक होने वाले विस्फोटों के जोखिम को कम करने के लिए सभी अवशिष्ट प्रणोदक और ऊर्जा स्रोतों को हटाने के लिए ऊपरी चरण को भी “निष्क्रिय” किया गया था.

इसरो ने कहा,” अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत दिशानिर्देशों के अनुपालन में इस रॉकेट बॉडी को निष्क्रिय करना और मिशन के बाद उसका निपटान और एक बार फिर बाहरी अंतरिक्ष गतिविधियों की दीर्घकालिक स्थिरता को बनाए रखने के लिए भारत की प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है. “

यह भी पढ़ें :-  सॉफ्टवेयर इंजीनियर सहेली से शादी के लिए पहले किया जेंडर चेंज, फिर ज़िन्दा जला डाला

ये भी पढ़ें-Chandrayaan-3 के विक्रम-प्रज्ञान कब जागेंगे नींद से? इसरो चीफ ने कही बड़ी बात, जानें

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button