देश

"जहां मोदी जी वहां HAM": विधायक दल की बैठक के बाद बोले जीतन राम मांझी

नई दिल्ली:

बिहार में राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं. एक तरफ ‘इंडिया’ गठबंधन में बड़ी फूट की आशंका जतायी जा रही है. सूत्र इस बाद की पुष्टि कर रहे हैं नीतीश कुमार(Nitish Kumar) ‘इंडिया’ से अलग होकर एनडीए में शामिल होंगे. वहीं इस बीच एनडीए की सहयोगी दलों की भी लगातार बैठकें चल रही है.  पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा की आज पटना में एक बैठक हुई. बैठक के बाद जीतन राम मांझी की तरफ से कहा गया है कि जहां मोदी जी रहेंगे वहां ‘हम’ पार्टी रहेगी. 

यह भी पढ़ें

जीतन राम मांझी के घर के बाहर लगाया गया पोस्टर

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा के समीकरण के हिसाब से जीतन राम मांझी की पार्टी बेहद अहम है. पार्टी के विधानसभा में 4 विधायक हैं. ऐसे में एनडीए की सरकार नीतीश कुमार के साथ बनाने के लिए भी जीतन राम मांझी की पार्टी का समर्थन बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा था. इधर जीतन राम मांझी के घर के बाहर एक पोस्टर लगाया गया है जिसमें लिखा गया है कि बिहार में बहार है बिना मांझी सब बेकार है. 

Latest and Breaking News on NDTV

बयान देने से बच रहे हैं राजद के नेता

राजद की तरफ से नीतीश कुमार को लेकर अभी तक कोई बयान नहीं खुलकर नहीं दिया जा रहा है. तेजस्वी यादव ने शनिवार को कहा कि , “CM नीतीश कुमार सम्मानजनक थे और हैं. महागठबंधन में RJD के सहयोगियों ने हमेशा मुख्यमंत्री का सम्मान किया है.” सूत्रों ने आगे बताया कि तेजस्वी ने राज्य में कई अप्रत्याशित राजनीतिक घटना के संकेत भी दिए हैं.

यह भी पढ़ें :-  कांग्रेस ने OROP के लिए 500 करोड़ रखे, हमने पूर्व सैनिकों को 70 हजार करोड़ रुपये दिए:पीएम मोदी

बिहार विधानसभा का क्या है समीकरण?

अभी के हालत में अगर नीतीश बीजेपी के साथ जाते हैं तो एनडीए के पक्ष में 127 विधायकों का समर्थन है. वहीं एआईएमआईएम के बचे हुए एक विधायक को अगर जोड़ दें तो राजद गठबंधन के पास 115 विधायकों का समर्थन हासिल है. बिहार विधानसभा में जादुई आंकड़ा 122 है. 

जादुई आंकड़े तक पहुंचने की राजद की कोशिश

नीतीश कुमार के RJD से नाता तोड़ने की अटकलों के बीच राजद ने 122 के जादुई आंकड़े तक पहुंचने के लिए 8 और विधायकों को साधने की कवायद शुरू कर दी है.  राजद+कांग्रेस+लेफ्ट की सीटों को मिला लिया जाए तो 79+19+16 यानी 114 का नंबर बनता है. मतलब साफ है बहुमत के लिए 8 विधायकों की कमी है.  लालू खेमा इन्हीं 8 विधायकों को साधने में जुट गया है. वहीं, नीतीश कुमार जेडीयू के प्रमुख नेताओं के साथ बैठक कर रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- :

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button