देश

स्पेस में योग? जानें दुनिया के पहले 'अंतरिक्ष योगी' बने राकेश शर्मा ने क्या कहा

अंतरिक्ष में उड़ान भरने के 40 से अधिक सालों के बाद, विंग कमांडर राकेश शर्मा ने The Hindkeshariके साइंस एडिटर पल्लव बागला से योग आसन करने के लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग करने, गुरुत्वाकर्षण की गैरमौजूदगी से उत्पन्न चुनौतियों और इसके परिणामों पर बात की. उनकी योग दिनचर्या की तुलना उनके साथ मिशन पर रहे रूसी अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा अपनाई जाने वाली प्रशिक्षण दिनचर्या से की गई.

अंतरिक्ष यात्री ने कहा कि योग प्रयोग को सोयुज टी-11 के मिशन में शामिल किया गया था, जो सोवियत सैल्यूट 7 अंतरिक्ष स्टेशन का छठा अभियान था. ये 3 अप्रैल, 1984 को लॉन्च किया गया था, क्योंकि सभी अंतरिक्ष यात्री बीमारी से बचने के तरीकों की तलाश में थे.

राकेश शर्मा ने कहा, “तैयारी के और कई तरीके थे. एक जिसे पश्चिम ने अपनाया और एक जिसे उस समय सोवियत संघ ने अपनाया, तो यहां ये पता लगाने का प्रयास था कि क्या अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष की कठोरता का सामना करने के लिए तैयार करने की योगिक विधि है, अगर है तो ये एक अलग, व्यवहार्य विकल्प पेश करेगा. रवीश मल्होत्रा, मिशन पर उनके बैकअप थे और मैंने लॉन्च से लगभग तीन से चार महीने पहले योग किया था.”

पूर्व भारतीय वायु सेना पायलट ने कहा कि उन्होंने रूसी नियम के अनुसार प्रशिक्षण बंद कर दिया था और ये पता लगाया था कि प्रक्षेपण से पहले, अंतरिक्ष में और पृथ्वी पर वापस आने के बाद सभी चरणों में अंतरिक्ष यात्रियों की तुलना में वे कितने अच्छी तरह तैयार हैं.

अंतरिक्ष में योग करना कठिन

विंग कमांडर राकेश शर्मा ने कहा, “योग ने हमें कुछ सबक सिखाए, क्योंकि अंतरिक्ष में योग करने का मतलब है कि आप इसे शून्य गुरुत्वाकर्षण में कर रहे हैं. जबकि पृथ्वी पर, जब आप योग कर रहे होते हैं, तो गुरुत्वाकर्षण होता है. इसलिए, उस गुरुत्वाकर्षण को दोहराने के लिए इलास्टिक डोरियों के साथ एक हार्नेस डिजाइन किया गया था. लेकिन, फिर खुद को संतुलित करना भी थोड़ा मुश्किल है. इसलिए, मैं कहूंगा कि अगर किसी प्रशिक्षित ने हमें योग करते देखा होता, तो वह काफी निराश होता.”

यह भी पढ़ें :-  रेल यात्रियों का खोया हुआ सामान उन तक पहुंचाने के 'मिशन' पर स्टेशन मैनेजर राकेश शर्मा, रेलवे से मिला सम्मान
अंतरिक्ष यात्री ने कहा कि एक सबक ये मिला कि अगर अंतरिक्ष में योग का अभ्यास करना है तो बेहतर उपकरण की जरूरत है. उस समय रूसी अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा अपनाई गई योगिक तैयारी और खाने के बीच तुलना के परिणाम पर उन्होंने कहा कि दोनों ठीक थे.

उन्होंने कहा, “कोई कम से कम ये कह सकता है कि योग प्रणाली द्वारा की गई तैयारी उससे बुरी नहीं थी, जो की जा रही थी, लेकिन यह कहने के लिए कि यह बेहतर थी, एक व्यापक सैंपल की जरूरत होगी.”

ये पूछे जाने पर कि क्या वो गगनयान कार्यक्रम के लिए नामित भारत के चार अंतरिक्ष यात्रियों को योग की सिफारिश करेंगे, विंग कमांडर शर्मा ने कहा कि ये बाद के मिशनों के दौरान हो सकता है.

उन्होंने कहा, “मैं वास्तव में इसे उन लोगों पर छोड़ दूंगा जो प्रयोग कर रहे हैं, क्योंकि समय बीत चुका है. एक चीज़ जो नहीं बदली है वो है मनुष्य का शरीर विज्ञान. इसलिए, मुझे लगता है, उस पहलू से ये प्रासंगिक रहेगा. लेकिन उन्हें निर्णय लेने दें. मुझे लगता है कि पहली कुछ उड़ानों के लिए, हमारे लिए सिस्टम को साबित करना और ये सुनिश्चित करना अधिक महत्वपूर्ण है कि वे विश्वसनीय हैं, ताकि हम इस रास्ते पर आगे बढ़ सकें. ये प्रयोग बाद के चरण में हो सकते हैं.”

 

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button