दुनिया

"तुम मेरे बेटे हो" : सिडनी के बिशप ने हमलावर को किया माफ, लोगों से शांत रहने का किया आह्वान

इमैनुएल के ऑनलाइन लगभग 200,000 फॉलोअर्स हैं.

सिडनी:

लाइव-स्ट्रीम धर्मोपदेश के दौरान बेरहमी से चाकू मारे गए सिडनी के एक बिशप ने गुरुवार को कहा कि वह ठीक हो रहे हैं और अपने हमलावर को माफ करते हैं. इसके बाद उन्होंने घोषणा की: “तुम मेरे बेटे हो. सोमवार को एक 16 वर्षीय संदिग्ध ने बिशप मार मारी इमैनुएल के सिर और छाती पर वार किया था, जिसके बाद पश्चिमी सिडनी में असीरियन ईसाई चर्च के अनुयायियों ने दंगा भड़का दिया था. वेकले में क्राइस्ट द गुड शेफर्ड चर्च के बिशप ने कहा, “मैं ठीक हूं, बहुत जल्दी ठीक हो रहा हूं”.

यह भी पढ़ें

यह क्षेत्र सिडनी के छोटे ईसाई असीरियन समुदाय का केंद्र है, जिनमें से कई लोग इराक और सीरिया में उत्पीड़न और युद्ध से भाग कर आए थे. इमैनुएल के लगभग 200,000 ऑनलाइन फॉलोअर्स हैं, जो कोविड-19 वैक्सीन और लॉकडाउन के साथ-साथ इस्लाम की आलोचना करते हैं. बिशप ने मंगलवार को जारी एक यूट्यूब वीडियो में कहा, “चिंतित या परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है.” इस वीडियो में केवल उनकी तस्वीर और बैकग्राउंड में उनकी आवाज सुनाई दे रही है. 

उन्होंने कहा, “जिसने भी यह कृत्य किया है, मैं उसे माफ करता हूं और उससे कहता हूं : तुम मेरे बेटे हो, मैं तुमसे प्यार करता हूं और मैं हमेशा तुम्हारे लिए प्रार्थना करूंगा. और जिसने भी तुम्हें ऐसा करने के लिए भेजा है, मैं उन्हें भी माफ करता हूं.” हमले के बाद किशोर संदिग्ध को सिडनी अस्पताल ले जाया गया. वरिष्ठ पुलिस ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि उसका इलाज कई दिनों तक चलने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें :-  इजरायल उत्तरी सीमा से करेगा गाजा की 'अस्थायी' मदद, सहायता कर्मियों की मौत के बाद लिया फैसला

चर्च के बाहर चाकूबाजी की घटना के बाद गुस्साए माहौल के बाद बिशप ने शांति का आह्वान किया है. हमले की रात सैकड़ों मण्डली और समुदाय के सदस्य घटनास्थल पर पहुंचे थे. कुछ लोगों ने पत्थर फेंके जिससे कथित तौर पर पुलिस घायल हो गई और 50 पुलिस कारें क्षतिग्रस्त हो गईं थी. बिशप ने कहा, “मैं चाहता हूं कि आप हमेशा शांत रहें.” उन्होंने कहा, “हमें हमेशा कानून का पालन करने वाले नागरिक बने रहने की जरूरत है. हमें पुलिस निर्देशों के साथ सहयोग करने की जरूरत है, चाहे वह राज्य स्तर पर हो या संघीय स्तर पर.  

उन्होंने कहा, “हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि हम ऑस्ट्रेलियाई होने के नाते बहुत भाग्यशाली हैं, लेकिन सबसे ऊपर हम ईसाई हैं और हमें इस तरह कार्य करने की आवश्यकता है.” पुलिस ने चर्च के बाहर हुई हिंसा के सिलसिले में बुधवार को एक 19 वर्षीय युवक पर आरोप लगाया और चेतावनी दी है कि आने वाले दिनों में और लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा.

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button