देश

आधी रात ई-मेल का दिया जवाब, अगले दिन बना दी बेंच… : CJI ने शेयर किया अपना वर्क कमिटमेंट

आधी रात को भी ई-मेल आता है, तो उसका जवाब देता हूं- CJI

नई दिल्‍ली :

भारत के सर्वोच्‍च न्‍यायालय के काम करने के तरीके में पिछले कुछ समय में काफी बदलाव आया है. इसकी एक वजह चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ (CJI DY Chandrachud) भी हैं.   The Hindkeshariके साथ एक खास बातचीत में सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने बताया कि अगर आधी रात को भी अगर किसी गंभीर मुद्दे की उन्‍हें जानकारी मिलती है, तो उस मामले की अगले दिन सुनवाई के लिए भी वह तैयार रहते हैं.

यह भी पढ़ें

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ एक केस का जिक्र करते हुए कहा, “मुझे एक बार आधी रात को एक संदेश मिला कि एक लड़की को मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्‍नेंसी की इजाजत चाहिए.” इस लड़की के पास समय बहुत कम था, मामले की गंभीरता को सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने भांप लिया. उन्‍होंने बताया, ” मैंने तुरंत अपने सहकर्मियों को रात में ही इस केस के बारे में सूचित किया और अगले दिन सुबह उस केस पर सुनवाई की गई.” 

डीवाई चंद्रचूड़ ने बताया कि यह पहला मौका नहीं था, जब इतने कम समय में बेंच बनाकर किसी मामले की सुनवाई की गई. हमारे सामने आना वाला कोई केस छोटा या बड़ा नहीं होता है. अगर किसी का घर गिराया जा रहा है, किसी को सरेंडर करना है, लेकिन उसकी मेडिकल कंडीशन ठीक नहीं है, किसी की नौकरी का मुद्दा है… ऐसी कई समस्‍याएं लेकर लोग सुप्रीम कोर्ट में आते हैं. इन सभी समस्‍याओं को हम गंभीरता से लेते हैं और उन्‍हें सुलझाने की कोशिश करते हैं” 

यह भी पढ़ें :-  "सिर्फ सहयोग नहीं करने का हवाला देकर अरेस्ट नहीं कर सकते" : ED के हलफनामे का केजरीवाल ने SC में दिया जवाब

उन्‍होंने बताया, “देखिए, अदालतों को बनाने का मकसद ही आम लोगों को न्‍याय दिलाने के लिए हुआ था. इसलिए हम सभी मामलों को एक ही नजरिये से देखते हैं. हमारा उद्देश्‍य आम लोगों के लिए खड़ा रहना है. हमारे लिये यह मायने नहीं रखता कि किस राज्‍य में किसकी सरकार है.लोग जब अदालतों पर भरोसा जताते हैं, तब हमें इस संवैधानिक ढांचे का अहम हिस्‍सा होने पर खुशी होती है. मैं लोगों को यहां से एक संदेश देना चाहता हूं कि हम अपनी वर्किंग लाइफ के हर पल में आम लोगों के लिए मौजूद हैं. कई बार मुझे आधी रात को भी ई-मेल आता है और मैं हमेशा उनका जवाब देता हूं.”

ये भी पढ़ें :- 

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button