देश

पहले पति ने सीमा हैदर को भेजा समन, बच्चों को पाकिस्तान वापस ले जाने के लिए नोएडा कोर्ट में लगाई गुहार

पहले पति ने सीमा हैदर को भेजा समन.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अपने प्रेमी के साथ रहने के लिए 2023 में चार बच्चों के साथ अवैध रूप से भारत आने वाली पाकिस्तानी (Pakistan) महिला सीमा हैदर (Seema Haidar) के पहले पति ने अपने बच्चों को वापस लाने में मदद के लिए एक भारतीय वकील की सेवा ली है. एक शीर्ष मानवाधिकार कार्यकर्ता ने शुक्रवार को कराची में यह जानकारी दी. सिंध प्रांत के जैकोबाबाद की रहने वाली सीमा हैदर पिछले साल मई में अपने बच्चों को लेकर नेपाल के रास्ते भारत जाने के लिए कराची स्थित अपने घर से निकल गईं थी.

यह भी पढ़ें

सीमा जुलाई में तब चर्चा में आईं जब अधिकारियों को उनके उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा इलाके में भारतीय नागरिक (अब उनके पति) सचिन मीणा के साथ रहने की जानकारी मिली. ऐसा कहा जा रहा है कि सीमा मीणा के बच्चे की मां बनने वाली हैं. पाकिस्तान के चोटी के वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी ने कहा कि सीमा के पाकिस्तानी पति गुलाम हैदर ने अपने चार बच्चों का संरक्षण पाने में मदद के लिए उनसे संपर्क किया है. बर्नी ने कहा, “उचित प्रक्रिया के बाद, हमने एक भारतीय वकील अली मोमिन की सेवा ली है और भारतीय अदालतों में कानूनी कार्यवाही शुरू करने के लिए पावर ऑफ अटॉर्नी भेज दी है.”

गुलाम हैदर ने नोएडा कोर्ट में दायर की याचिका

बर्नी अपने नाम से एक ट्रस्ट भी चलाते हैं, जो लापता और अपहृत बच्चों की बरामदगी के लिए काम करता है. उन्होंने पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय कैदियों का भी प्रतिनिधित्व किया है. सीमा तब चर्चा में आ गईं जब उन्होंने कहा कि मोबाइल गेम पबजी खेलते हुए सचिन मीणा से प्यार हो गया और उन्होंने उनके पास जाने का फैसला किया. जब सीमा संयुक्त अरब अमीरात और नेपाल के रास्ते भारत आईं तब उनके पति सऊदी अरब में काम करते थे.

यह भी पढ़ें :-  छत्तीसगढ़: कस्‍टम राइस मिलिंग घोटाले में पूर्व प्रबंध निदेशक पर 175 करोड़ रुपये की रिश्‍वत का आरोप

कराची में रहने वाले गुलाम हैदर ने एक भारतीय वकील के जरिए नोएडा की पारिवारिक अदालत में एक याचिका दायर की थी, जिसमें सचिन मीणा के साथ सीमा की शादी की वैधता को चुनौती दी गई.

“गुलाम हैदर का मामला मजबूत”

‘बीबीसी’ को दिए एक इंटरव्यू में सीमा ने कहा कि उन्होंने हिंदू धर्म अपना लिया है और पाकिस्तान लौटने से इनकार कर दिया. सीमा का दावा है कि उनके बच्चों ने भी हिंदू धर्म अपना लिया है. बर्नी ने कहा कि गुलाम हैदर का मामला मजबूत है और अंतरराष्ट्रीय कानूनों के अनुसार, कम उम्र के बच्चों का धर्म परिवर्तन निषिद्ध है. उन्होंने कहा, “यह मामला बिल्कुल स्पष्ट है क्योंकि भले ही सीमा अब वहां बस गई हो, उनके बच्चे पाकिस्तानी नागरिक हैं और कम उम्र के हैं, पिता को उन पर पूरा अधिकार है.” बर्नी ने कहा कि गुलाम हैदर अपनी पत्नी से कुछ नहीं चाहते बल्कि केवल अपने बच्चों को पाकिस्तान वापस लाना चाहते हैं.

हमें मामले की जानकारी नहीं- सीमा मीणा के वकील

भारत में, सीमा हैदर और सचिन मीणा के कानूनी प्रतिनिधि, वकील एपी सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, “हमें ऐसे किसी भी घटनाक्रम की जानकारी नहीं है. जब हमें आधिकारिक तौर पर इसके बारे में पता चलेगा, तो हम जवाब देंगे.” सीमा और सचिन मीणा के मामले की जांच वर्तमान में उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद-रोधी दस्ते द्वारा की जा रही है, जिसने नोएडा पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के कुछ सप्ताह बाद जुलाई 2023 में दंपति को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था.

यह भी पढ़ें :-  "रिश्वतखोरी संसदीय विशेषाधिकारों द्वारा संरक्षित नहीं": सुप्रीम कोर्ट के फैसले की बड़ी बातें

सीमा हैदर मई में अपने चार बच्चों के साथ भारत आई थीं और गुप्त रूप से रबूपुरा इलाके में किराए के मकान में रहती थीं. सभी बच्चों की उम्र सात साल से कम थी. सीमा और सचिन मीणा को पिछले साल चार जुलाई को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन एक स्थानीय अदालत ने सात जुलाई को उन्हें जमानत दे दी.

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button