दुनिया

हमास का हमला : गाजा में इजराइल-फिलिस्तीन संघर्ष की टाइमलाइन, जानिए- कब क्या हुआ

समाचार एजेंसी रॉयटर की एक रिपोर्ट के अनुसार, इजराइल-फिलिस्तीन (Palestine) के बीच विवाद की टाइमलाइन साल 2005 में गाजा पट्टी से इजराइल की वापसी और फिर उसके और फिलिस्तीनी ग्रुपों के बीच शुरू हुए संघर्ष का ब्यौरा देती है. भीड़भाड़ वाले तटीय क्षेत्र में इजराइल और फिलिस्तीनी समूहों के बीच झड़पें लगातार चलती रही हैं. इस क्षेत्र में 23 लाख लोगों के घर हैं.

अगस्त 2005 – मध्य पूर्व युद्ध में मिस्र से कब्जा लेने के 38 साल बाद इजराइली सेनाएं गाजा से एकतरफा हट गईं थीं. उन्होंने बस्तियों को छोड़ दिया था और उन्हें फिलिस्तीन के नियंत्रण में क्षेत्र छोड़ दिया था.

25 जनवरी, 2006 – फिलिस्तीन के चुनाव में इस्लामवादी समूह हमास ने अधिकांश सीटें जीतीं. इजराइल और अमेरिका ने फिलिस्तीनियों को सहायता बंद कर दी क्योंकि हमास ने हिंसा छोड़ने और इजराइल को मान्यता देने से इनकार कर दिया.

25 जून, 2006 – हमास के आतंकवादियों ने गाजा से सीमा पार हमले में इजराइली सेना के सिपाही गिलाद शालित को पकड़ लिया, जिससे इजराइली हवाई हमले और घुसपैठ हुई. पांच साल से अधिक समय के बाद आखिरकार शालित को कैदियों की अदला-बदली में रिहा कर दिया गया.

14 जून, 2007 – हमास ने अल्प समय के गृह युद्ध में गाजा पर कब्ज़ा कर लिया और वेस्ट बैंक में स्थित फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास के प्रति वफादार फतह बलों को बाहर कर दिया.

27 दिसंबर, 2008 – फ़िलिस्तीन की ओर से दक्षिणी इजराइली शहर सेडरोट पर रॉकेट दागे जाने के बाद इज़राइल ने गाजा में 22 दिन तक सैन्य हमले किए. युद्धविराम पर सहमति बनने से पहले लगभग 1400 फ़िलिस्तीनी और 13 इजराइली मारे गए.

यह भी पढ़ें :-  Explainer: कैसे काम करता है मोसाद और हमास के हमले को रोकने में क्यों रहा विफल?

14 नवंबर, 2012 – फिलिस्तीनी आतंकवादियों के रॉकेट हमले और इज़राइली हवाई हमलों के आठ दिन बाद इजराइल ने हमास के सैन्य प्रमुख अहमद जाबरी की हत्या कर दी. 

जुलाई-अगस्त 2014 – हमास ने तीन इजराइली किशोरों का अपहरण करके उनकी हत्या कर दी. इसके कारण सात सप्ताह तक युद्ध चला. इसमें गाजा में 2,100 से अधिक फिलिस्तीनियों के मारे जाने और 73 इजराइलियों के मारे जाने की खबर थी, जिनमें से 67 सैनिक थे.

मार्च 2018 – इज़राइल के साथ लगी गाजा की बाड़ वाली सीमा पर फिलिस्तीन का विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ. प्रदर्शनकारियों को पीछे धकेलने के लिए इजराइली सैनिकों ने गोलीबारी की. कई महीनों तक चले इस विरोध प्रदर्शन के दौरान हमास और इजराइली बलों के बीच चले संघर्ष में 170 से अधिक फिलिस्तीनियों के मारे जाने की खबर थी.

मई 2021 – मुस्लिमों के रमजान के उपवास के महीने के दौरान हफ्तों तक तनाव बना रहा. इस्लाम के तीसरे सबसे पवित्र स्थल येरूशलम के अल अक्सा परिसर में इजराइली सुरक्षा बलों के साथ झड़प में सैकड़ों फिलिस्तीनी घायल हो गए. इजराइल की ओर से परिसर से सुरक्षा बलों को हटाने की मांग के बाद हमास ने गाजा से इजराइल पर रॉकेटों की बौछार कर दी. इजराइल ने जवाबी कार्रवाई करते हुए गाजा पर हवाई हमला किया. यह संघर्ष 11 दिनों तक चलता रहा, जिसमें गाजा में कम से कम 250 लोग और इजराइल में 13 लोग मारे गए.

अगस्त 2022 – एक वरिष्ठ इस्लामिक जिहाद कमांडर के इजराइली हवाई हमलों का शिकार बनने पर शुरू हुई हिंसा तीन दिन तक चली. इस हिंसा में 15 बच्चों सहित कम से कम 44 लोग मारे गए.

यह भी पढ़ें :-  Elon Musk अपना नया AI टूल लॉन्च कर ChatGPT को देंगे चुनौती

इजराइल का कहना है कि यह हमले ईरानी समर्थित आतंकवादी मूवमेंट की ओर से कमांडरों और हथियार डिपो को निशाना बनाकर किए जाने वाले हमले की आशंका के मद्देनजर एक एहतियाती कार्रवाई थी. जवाब में इस्लामिक जिहादियों ने इजराइल की ओर 1000 से अधिक रॉकेट दागे. इजराइल का आयरन डोम एयर डिफेंस सिस्टम किसी भी गंभीर क्षति या जनहानि को रोकने में सक्षम है.

जनवरी 2023 – इजराइली सैनिकों द्वारा एक शरणार्थी शिविर पर हमला करने और सात फिलिस्तीनी बंदूकधारियों और दो नागरिकों को मारने के बाद गाजा में इस्लामिक जिहादियों ने इजराइल की ओर दो रॉकेट दागे. रॉकेटों से सीमा के पास इजराइली समुदायों को चेतावनी मिल गई और कोई हताहत नहीं हुआ. इजराइल ने गाजा पर हवाई हमले कर जवाब दिया.

अक्टूबर 2023 – हमास ने गाजा पट्टी से इज़राइल पर सबसे बड़ा हमला किया. उसने आश्चर्यजनक हमला करते हुए रॉकेटों की भारी बौछार की और उसके बंदूकधारी सीमा पार कर गए. इस्लामिक जिहाद का कहना है कि उसके लड़ाके हमले में शामिल हो गए हैं.

इजराइल की सेना ने कहा कि वह युद्ध लड़ रही है. उसने गाजा में हमास को निशाना बनाकर हमले किए हैं.

यह भी पढ़ें –

इजराइल-फिलिस्तीन के बीच विवाद का लंबा इतिहास, जानिए- क्या है ताजा संघर्ष की वजह

इजराइल पर हमास का हमला, किसी देश ने की शांति की अपील; किसी ने खुशी जताकर चौंकाया

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button