दुनिया

हमास के हमले का जवाब देने के लिए इजरायल ने 48 घंटे में जुटाए 3 लाख सैनिक : रिपोर्ट 

हगारी ने कहा कि सेना ने सीमा पर स्थित 24 शहरों में से 15 को खाली करा लिया है और सोमवार तक अन्य शहरों को खाली कराना जारी रखेगी. उन्होंने यह भी कहा कि शनिवार सुबह लड़ाई शुरू होने के बाद से इजराइल की ओर करीब 4400 रॉकेट दागे गए हैं. 

टाइम्‍स ऑफ इजरायल की रिपोर्ट के मुताबिक, हगारी ने कहा कि शार हानेगेव रीजनल काउंसिल में सैनिकों ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया. वहीं बेरी में एक, होलिट और सूफा में पांच  और अलुमिम में चार आतंकी मारे गए. 

हगारी ने कहा, “यह संभव है कि क्षेत्र में अभी भी आतंकवादी हों,” लेकिन उन्होंने कहा कि किसी भी कस्बे में कोई लड़ाई नहीं चल रही है.

कुछ आतंकवादी शनिवार को प्रारंभिक हमले के बाद से इजरायल में हैं, जबकि अन्य पिछले दो दिनों में सीमा पार कर गए हैं. हगारी ने कहा कि गाजा बॉर्डर पर अवरोधों को लड़ाकू हेलीकॉप्टरों और ड्रोनों की मदद से टैंकों द्वारा भौतिक रूप से सुरक्षित किया जाएगा. 

एक अन्य घटनाक्रम में इजरायली सेना ने लेबनान से संदिग्ध घुसपैठ के खिलाफ भी सैनिकों को तैनात किया है. रॉयटर्स ने इजरायली सेना के हवाले से कहा, “लेबनानी क्षेत्र से इजरायली क्षेत्र में कई संदिग्धों की घुसपैठ के संबंध में रिपोर्ट प्राप्त हुई थी. आईडीएफ सैनिक क्षेत्र में तैनात हैं.”

आईडीएफ ने एक्‍स पर एक पोस्‍ट में कहा कि आईडीएफ होमफ्रंट कमांड ने लेबनानी सीमा के पास के शहरों में इजरायली नागरिकों को भी अपने घरों में रहने का निर्देश दिया है.  

इस बीच, आईडीएफ के हवाई हमले जारी हैं.  सेना ने कहा कि वह हमास आतंकवादी समूह से संबंधित लक्ष्यों को निशाना बना रही है. आतंकवादी समूह द्वारा इजरायल में अभूतपूर्व पैमाने पर नरसंहार करने के दो दिन बाद, “हमास आतंकवादी समूह की क्षमताओं को नष्ट करने” के प्रयास के तहत रात भर में कई हमलों को अंजाम दिया गया. हमास के हमले में कम से कम 700 नागरिक और सुरक्षाकर्मी मारे गए.  टाइम्स ऑफ इजरायल की रिपोर्ट के अनुसार, यह देश के इतिहास का सबसे घातक दिन था. 

यह भी पढ़ें :-  इज़राइल पर हमले के लिए हमास ने क्यों चुना 6 अक्टूबर का दिन? जानें दो बड़ी वजह

नए अपडेट के अनुसार, 800 से अधिक लोग मारे गए हैं और 2400 से अधिक घायल हुए हैं, जिनमें से कई की हालत गंभीर है. 

सोमवार को एक बड़े घटनाक्रम में, इजरायली रक्षा मंत्री योव गैलेंट ने कहा कि उन्होंने गाजा पट्टी की “पूर्ण घेराबंदी” का आदेश दिया है. गैलेंट ने कहा, “मैंने गाजा पट्टी पर पूर्ण घेराबंदी का आदेश दिया है. वहां न बिजली होगी, न भोजन, न ईंधन, सब कुछ बंद.” उन्होंने कहा, “हम मानव जानवरों से लड़ रहे हैं और हम उसके अनुसार कार्य कर रहे हैं.”

ये भी पढ़ें :

* गाजा पर नहीं रुके हमले तो हर बंधक को देखनी पड़ेगी मौत : एयर स्ट्राइक्स पर इजरायल को हमास की धमकी

* Explainer: हमास ने कैसे अपनी स्पेशल यूनिट्स के साथ इजरायल पर किया हमला

* “सुनिश्चित करेंगे, यह दोबारा कभी न हो…”, हमास हमले पर The Hindkeshariसे बोले इज़रायल के पूर्व PM यायर लैपिड

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button