देश

राष्‍ट्रपति मुर्मू ने वायु सेना की चार इकाइयों को ‘राष्ट्रपति मानक और रंग’ पुरस्कार से किया सम्मानित

इसमें बताया कि राष्ट्रपति मानक और रंग पुरस्कार किसी भी सशस्त्र बल इकाई के लिए सर्वोच्च सैन्य सम्मान है. बयान में कहा गया कि इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए चुनी गई चारों इकाइयों का भारतीय वायुसेना के इतिहास में शानदार योगदान है. 

भारतीय वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग तथा नागर विमानन राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वी के सिंह सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे. 

मुर्मू के आगमन से पहले भारतीय वायुसेना की टुकड़ियों के एक समूह ने एक औपचारिक परेड और बैंड प्रस्तुति से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया. 

भारतीय वायुसेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुर्मू वायुसेना के एक विशेष विमान से हिंडन वायुसेना स्टेशन पहुंचीं. राष्ट्रपति सशस्त्र बलों की सर्वोच्च कमांडर हैं. वायुसेना को ये पुरस्कार ऐसे दिन दिए गए हैं जब अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जा रहा है. 

राष्‍ट्रपति ने बताया ऐतिहासिक अवसर 

‘गार्ड ऑफ ऑनर’ प्राप्त करने के बाद, मुर्मू ने 45 स्क्वाड्रन और 221 स्क्वाड्रन को राष्ट्रपति के मानक और 11 बेस रिपेयर डिपो और 509 सिग्नल यूनिट को राष्ट्रपति के रंग प्रदान किए. 

उन्होंने भारतीय वायुसेना की चार इकाइयों को सम्मान दिए जाने को एक ‘‘ऐतिहासिक अवसर” बताया और राष्ट्र की सेवा में बल और उसके योद्धाओं के योगदान की सराहना की. 

बयान में बताया गया कि वायुसेना की 45 स्क्वाड्रन को ‘फ्लाइंग डैगर्स’ के नाम से भी जाना जाता है. इसकी स्थापना 1959 में हुई थी. इस स्क्वाड्रन ने 1960 में पुर्तगाली शासन से गोवा की आजादी के लिए ‘ऑपरेशन विजय’ में भाग लिया था.

यह भी पढ़ें :-  जेपी नड्डा की कार बनारस से बरामद, नागालैंड भेजने की फिराक में थे आरोपी

इसमें बताया गया कि 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में इस इकाई को पंजाब और राजस्थान सेक्टर के हवाई क्षेत्र की रक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. 

1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में तैनाती 

वायुसेना की 221 स्क्वाड्रन को ‘वैलिएंट्स’ के नाम से जाना जाता है. इसकी स्थापना 14 फरवरी 1963 को बैरकपुर में की गई थी. इस स्क्वाड्रन के गठन के बमुश्किल दो साल बाद इसे 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान पूर्वी क्षेत्र में तैनात किया गया था, जहां इसने सराहनीय योगदान दिया था. इस स्क्वाड्रन ने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान भी पूर्वी क्षेत्र को सुरक्षित रखने में अहम योगदान दिया.

‘11 बेस रिपेयर डिपो’ भारतीय वायुसेना का एक प्रमुख और एकमात्र लड़ाकू विमान ‘बेस रिपेयर डिपो’ है. इसे अप्रैल 1974 में नासिक के ओझर में रखरखाव कमान के तहत स्थापित किया गया था. ‘509 सिग्नल यूनिट’ की स्थापना एक मार्च 1965 को की गई थी और वर्तमान में यह मेघालय में वायु रक्षा दिशा केंद्र के रूप में कार्य कर रही है. 

ये भी पढ़ें :

* भारतीय वायुसेना शुरुआत से ही आत्मनिर्भर रही है : एयर मार्शल आशुतोष दीक्षित

* VIDEO: सिंगापुर के एयरशो में IAF की चॉपर डिस्प्ले टीम ‘सारंग’ ने बिखेरे रंग

* 8 साल पहले रहस्यमयी तरीके से गायब हुआ था IAF का एयरक्राफ्ट, इन वैज्ञानिकों और मशीनों ने सुलझाई गुत्थी

(इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button