दुनिया

भारत-कनाडा विवाद को लेकर ऋषि सुनक ने किया तनाव कम करने का आह्वान

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक (फाइल फोटो).

लंदन:

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने कहा है कि उन्हें अपने कनाडाई समकक्ष जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) के साथ एक कॉल के बाद भारत-कनाडा के बीच उस राजनयिक विवाद (India-Canada diplomatic row) में कमी देखने की उम्मीद है, जो जून में एक खालिस्तानी आतंकवादी की हत्या पर गतिरोध के कारण जारी है. ऋषि सुनक और कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने टेलीफोन पर हुई बातचीत के दौरान नई दिल्ली और ओटावा के बीच तनाव कम करने तथा कानून के शासन का सम्मान करने पर जोर दिया.

यह भी पढ़ें

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के दफ्तर और आवास डाउनिंग स्ट्रीट की ओर से जारी किए गए एक बयान के अनुसार ब्रिटिश भारतीय नेता ने शुक्रवार की शाम को ट्रूडो से बात की. इस बातचीत में उन्हें भारत में कनाडाई राजनयिकों से संबंधित हालात के बारे में जानकारी दी गई. दोनों नेता संपर्क में बने रहने पर सहमत हुए. 

खालिस्तान समर्थक वांछित अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत सरकार के एजेंट की संलिप्तता के कनाडा के आरोप के बाद ऋषि सुनक ने कानून के शासन के प्रति ब्रिटेन के रुख को दोहराया.

बयान में कहा गया है, ‘‘प्रधानमंत्री ट्रूडो ने भारत में कनाडाई राजनयिकों से संबंधित स्थिति पर ताजा जानकारी दी.” बयान में कहा गया, ‘‘प्रधानमंत्री (सुनक) ने ब्रिटेन के उस रुख को दोहराया कि सभी देशों को राजनयिक संबंधों पर वियना संधि के सिद्धांतों सहित संप्रभुता और कानून के शासन का सम्मान करना चाहिए. उन्होंने हालात बेहतर होने की उम्मीद जताई.”

यह भी पढ़ें :-  इजरायल ने गाजा के अस्पताल में किया हमला, कब्र से निकाल कर बुलडोजर से रौंदे फिलिस्तीनियों के शव

कनाडा की राजधानी ओटावा से प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस बयान को दोहराते हुए कहा कि ट्रूडो ने कनाडा और भारत के बीच मौजूदा स्थिति पर अपडेटेड जानकारी दी.

कनाडा सरकार के बयान में कहा गया है, ‘‘दोनों नेताओं ने राजनयिक संबंधों पर वियना संधि के सम्मान और अपने नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर बल दिया. उन्होंने तनाव कम करने के महत्व पर जोर दिया. जस्टिन ट्रूडो और ऋषि सुनक करीबी संपर्क में रहने और वैश्विक मुद्दों से निपटने के लिए साथ मिलकर काम करने पर सहमत हुए.”

यह भी पढ़ें –

कनाडा ने भारत से अपने राजनयिकों को कुआलालम्पुर या सिंगापुर भेजा : रिपोर्ट

भारत में कनाडा के राजनयिकों की तादाद अधिक, संख्या घटाए जाने की उम्मीद : विदेश मंत्रालय

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button