देश

नहीं थम रहा विस्तारा एयरलाइंस की उड़ानों में देरी और रद्द होने का सिलसिला, आज भी दिल्ली की 10 फ्लाइट कैंसिल

नहीं थम रहा विस्तारा एयरलाइंस की उड़ानें कैंसिल और रद्द होने का सिलसिला

विस्तारा एयरलाइंस (Vistara Crisis) की उड़ानों में देरी और रद्द होने का सिलसिला नहीं थम रहा. आज भी विस्तारा की कई उड़ानें रद्द हुई हैं. दिल्ली से उड़ान भरने वाली 10 फ़्लाइट्स रद्द की गई हैं.  मुंबई से दिल्ली की 4 और मुंबई से बेंगलुरु की 2 फ़्लाइट्स भी रद्द की गई हैं. फ़्लाइट्स रद्द होने से यात्री परेशान हैं. दरअसल, विस्तारा के कई पायलट एक साथ छुट्टी पर चले गए हैं. कल भी एयरलाइंस ने 60 से ज्यादा फ्लाइट्स रद्द कीं थीं और 160 से ज्यादा विमानों ने देरी से उड़ान भरी थी.

जानें किस बात को लेकर है विवाद

यह भी पढ़ें

बता दें कि विस्तारा-एअर इंडिया के विलय पर बवाल जारी है. यलटों में इस विलय को लेकर आशंकाएं हैं. नौकरी के नए नियम और नया वेतन-ढांचा उन्हें स्वीकार्य नहीं है.  नए वेतन की पेशकश पर दस्तखत को तैयार नहीं हैं. इससे सैलरी भी कम होगी, छुट्टियों पर भी असर पड़ेगा, जो दस्तख़त नहीं करेंगे, उन पर बदलाव लागू नहीं होगा.

मुसाफिरों की असुविधा के लिए मांगी माफी

वहीं पूरे मामले पर विस्तारा एयरलाइंस ने मुसाफिरों की असुविधा के लिए माफी मांगी है. उनका कहना है कि पायलटों की कमी से परेशानी हुई, हम हालात सामान्य करने में जुटे हैं. अस्थायी तौर पर फ्लाइट्स की संख्या घटा रहे हैं और यात्रियों के लिए दूसरी फ्लाइट या रिफंड का विकल्प दे रहे हैं. 

गौरतलब है कि नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने विस्तारा को उड़ान रद्द होने के साथ-साथ देरी पर दैनिक रूप से जानकारी देने को कहा है. साथ ही नियामक ने यात्रियों की सुविधा के लिए स्थिति पर करीबी नजर रखने की बात भी कही है. डीजीसीए ने कहा कि यात्रियों को कम से कम असुविधा हो, यह सुनिश्चित करने के लिए वह विस्तारा के उड़ान रद्द करने के मामलों पर करीबी नजर रख रहा है.  विस्तारा, टाटा समूह और सिंगापुर एयरलाइंस का संयुक्त उद्यम है. विस्तारा के ए320 बेड़े के कई प्रथम अधिकारी पिछले कुछ सप्ताह में बीमार होने की सूचना दे रहे हैं.

 

यह भी पढ़ें :-  "किसी भी BJP उम्मीदवार की तलाशी नहीं ली गई": पी. चिदंबरम ने एजेंसियों के दुरुपयोग का लगाया आरोप

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button