देश

उत्तराखंड सुरंग हादसा: प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव ने सिलक्यारा में बचाव कार्यों का लिया जायजा

उत्तरकाशी (उत्तराखंड):

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रमुख सचिव डॉ. पीके मिश्र ने सोमवार को सिलक्यारा पहुंचकर पिछले दो सप्ताह से फंसे श्रमिकों को बाहर निकालने के लिए चलाए जा रहे बचाव कार्यों का जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने ग्राफिक्स प्रेजेंटेशन एवं मैपिंग के माध्यम से साढ़े चार किलोमीटर लंबी निर्माणाधीन सुरंग की भौगोलिक स्थिति को समझा. प्रमोद कुमार मिश्र ने सुरंग के अंदर चल रहे बचाव कार्य की बारीकियों को समझा और अधिकारियों के साथ ही इस काम में जुटे इंजीनियर और श्रमिकों से बात करके उनका हौसला बढ़ाया.

यह भी पढ़ें

इस मौके पर उन्होंने मलबे में फंसी ऑगर मशीन के ब्लेड एवं शैफ्ट को काटने वाले श्रमिकों से बात कर उनकी सराहना की. उन्होंने अधिकारियों को अंदर फंसे श्रमिकों के साथ राहत बचाव कार्य में जुटे सभी लोगों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए.

प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव ने सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों के लिए भेजी जा रही भोजन सामग्री के बारे में जानकारी ली. उन्होंने सुरंग में राज्य आपदा प्रतिवादन बल (एसडीआरएफ) द्वारा स्थापित ‘ऑडियो कम्युनिकेशन सेटअप’ (श्रव्य संचार प्रणाली) एवं बीएसएनएल द्वारा स्थापित ‘टेलीफोनिक कम्युनिकेशन सिस्टम’ (दूरसंचार प्रणाली) के माध्यम से अंदर फंसे गब्बर सिंह सहित अन्य श्रमिकों से बातचीत कर उनका हाल-चाल जाना.

उन्होंने श्रमिकों से अपना ध्यान रखने के लिए कहा और उन्हें बताया कि बचाव अभियान में सभी लोग मेहनत कर रहे हैं और कई मोर्चों पर कार्य जारी है. उन्होंने कहा कि सभी को जल्द बाहर निकालने की कोशिश जारी है.

Latest and Breaking News on NDTV

मिश्र ने सुरंग में फंसे श्रमिकों के परिजनों से भी मुलाकात करकउनका हौसला बढ़ाया और कहा कि पूरा देश श्रमिकों की शीघ्र और सुरक्षित निकासी के लिए दुआ कर रहा है.

यह भी पढ़ें :-  अपनी जिंदगी लाचार, लेकिन दूसरों को बचाने में दमदार : जानें 41 मजदूरों के 'संकटमोचक' रैट होल माइनर्स का इतिहास

उन्होंने कहा कि परिजनों को हौसला बनाए रखना होगा, सरकार उनके साथ खड़ी है. यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर बन रही सिलक्यारा सुरंग का एक हिस्सा 12 नवंबर को ढह गया था, जिसके कारण उसमें काम कर रहे 41 श्रमिक फंस गए थे. उन्हें बाहर निकालने के लिए युद्ध स्तर पर बचाव अभियान चलाया जा रहा है.

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button