देश

वाईएस शर्मिला ने आंध्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का संभाला पदभार, अपने भाई CM जगन रेड्डी पर साधा निशाना

बिना कुछ कहे, शर्मिला ने तुरंत अपने भाई और मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के नेतृत्व वाली सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी और तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) पर तीखा हमला किया. 

उन्होंने दावा किया कि वाईएसआरसीपी सरकार के तहत पिछले पांच वर्षों में और उससे पहले तेदेपा के शासन में पांच साल में आंध्र प्रदेश में कोई विकास नहीं हुआ. शर्मिला ने आरोप लगाया कि वाईएसआरसीपी और तेदेपा सरकारों ने आंध्र प्रदेश को लगभग 10 लाख करोड़ रुपये के गहरे कर्ज में धकेल दिया है. जगन मोहन रेड्डी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार के पास सड़कें बनाने या कर्मचारियों को वेतन देने के लिए भी पैसे नहीं है. 

एपीसीसी अध्यक्ष ने सवाल किया कि क्या आंध्र प्रदेश के पास कोई राजधानी है या उसे बनाने के लिए धन है और उन्होंने कहा कि राज्य के एक भी शहर में मेट्रो ट्रेन की सुविधा नहीं है.

शर्मिला ने कहा कि आंध्र प्रदेश में दलितों के खिलाफ अत्याचार और माफिया के नेतृत्व में अवैध रेत खनन में 100 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

उन्होंने तेलंगाना के अलग होने के 10 साल बाद भी राज्य को विशेष दर्जा नहीं मिलने का संदर्भ देते हुए आंध्र प्रदेश की तुलना हिमाचल प्रदेश से की और बताया कि विशेष दर्जा प्राप्त करने के बाद हिमाचल प्रदेश कई उद्योगों को आकर्षित करने में कैसे कामयाब रहा.

शर्मिला ने कहा कि जगन मोहन रेड्डी जब तक विपक्ष में थे तब तक उन्होंने राज्य को विशेष दर्जा दिलाने के लिए लड़ाई लड़ी, लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने ऐसा नहीं किया।

यह भी पढ़ें :-  पश्चिम दिल्ली में 1500 रुपये के लिए व्यक्ति की चाकू मारकर हत्या

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने के लिए वाईएसआरसीपी और तेदेपा को समान रूप से जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हाथों की कठपुतली बन गई हैं, उसके सामने आत्मसमर्पण कर दिया है और दोनों ‘एक ही सिक्के के दो पहलू’ हैं.

शर्मिला ने नौकरियों के सवाल पर केंद्र को घेरा 

भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी केंद्र में 10 साल से सत्ता में है और उसने हर साल देश में दो करोड़ नौकरियां पैदा करने का वादा किया था, लेकिन यह सवाल है कि क्या इस अवधि में आंध्र प्रदेश में एक लाख नौकरियां भी पैदा की गईं? शर्मिला ने जोर देकर कहा कि वाईएसआर कांग्रेस या तेदेपा को कोई भी वोट देना भाजपा के लिए वोट देना होगा क्योंकि दोनों पार्टियों ने केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी का उसके सभी प्रयासों में ‘समर्थन’ किया है. 

राजशेखर रेड्डी के प्रशंसकों से किया ये आह्वान 

उन्होंने दोनों दलों से आह्वान किया कि वे भाजपा को तभी समर्थन दें, जब वह आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा दे और पोलावरम परियोजना को उसकी लागत का 90 प्रतिशत वित्त पोषण करके राष्ट्रीय परियोजना के रूप में मान्यता दे. 

शर्मिला ने राजशेखर रेड्डी के सभी प्रशंसकों और सम‍र्थकों से कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने का खुला आह्वान किया. 

मंगलगिरी से विधायक कांग्रेस में हुए शामिल 

बाद में, हाल ही में वाईएसआर कांग्रेस छोड़ने वाले मंगलगिरी विधायक ए रामकृष्ण रेड्डी शर्मिला की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल हो गए. 

इस बीच, विजयवाड़ा के पुलिस आयुक्त कांथी रतन टाटा ने एक बयान जारी कर स्पष्ट किया कि जब शर्मिला बंदर रोड पर शपथ ग्रहण समारोह स्थल की ओर जा रही थीं, तब पुलिस ने उनके काफिले को नहीं रोका था. 

यह भी पढ़ें :-  चुनावी रेवड़ी या रिश्वत? तेलंगाना में BPL परिवार की लड़कियों की शादी में सोना देने का कांग्रेस का वादा

ये भी पढ़ें :

* बीजेपी के लिए क्यों खास है दक्षिण भारत, 2019 में 29 सीटें; अबकी बार मिलेंगी कितनी?

* जैसा देश, वैसा वेश; पीएम मोदी ने दक्षिणी राज्यों में दिया दिल जोड़ने का संदेश

* आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में बड़ा फेरबदल, वाईएस शर्मिला को बनाया गया प्रदेश अध्यक्ष

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button