दुनिया

माले पोर्ट की ओर बढ़ रहा चीन का जासूसी जहाज, मालदीव बोला- स्वागत को तैयार


मालदीव सरकार ने पुष्टि की है कि चीन का जहाज Xian Yang Hong 03 मालदीव के जल क्षेत्र में कोई रिसर्च नहीं करेगा. मालदीव ने इसके साथ ही बताया कि चीन के जहाज ने रोटेशन और रिप्लेनिशमेंट के लिए पहले ही मंजूरी मांगी थी. 

मुइज्जू सरकार ने अपने बयान में कहा, “मालदीव हमेशा दोस्ताना बर्ताव वाले राष्ट्रों के जहाजों के लिए एक वेलकमिंग डेस्टिनेशन रहा है. हम शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए पोर्ट पर जाने वाले सिविलियन और मिलिट्री दोनों तरह के जहाजों की मेजबानी करते रहे हैं…”

मालदीव ने कहा, “इस तरह की कॉल मालदीव और उसके साझेदार देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाती हैं. साथ ही दोस्ताना देशों के जहाजों का स्वागत करने की सदियों पुरानी परंपरा को भी प्रदर्शित करती हैं…”

 

चीनी जहाज का मालदीव पहुंचना ऐसे समय हो रहा है, जब एक तरफ भारत-मालदीव के रिश्तों में तनाव जारी है. दूसरी तरफ चीन-मालदीव के रिश्तों में नजदीकियां बढ़ती देखी जा रही है. चीनी जहाज की सैटेलाइट तस्वीरें भी सामने आई हैं. रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि ये जहाज 8 फरवरी तक मालदीव की राजधानी माले पहुंचेगा.

रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी जासूसी जहाज जियांग यांग होंग 03 इसके पहले 2019 और 2020 में मालदीव के माले में लंगर डाल चुका है. इसे बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में भी देखा जा चुका है. 

8 फरवरी को मालदीव की राजधानी पहुुंचेगा चीन का जहाज

मरीन ट्रैकर ऐप से पता चलता है कि चीन का जासूसी जहाज 8 फरवरी को मालदीव की राजधानी माले के बदंरगाह (पोर्ट) पहुंचने वाला है. प्रमुख भू-स्थानिक विशेषज्ञ (Geospatial Expert) डेमियन साइमन के मुताबिक, इस जहाज ने 2019 और 2020 के बीच यहां के पानी का सर्वे किया था.

यह भी पढ़ें :-  इजरायल की पूर्वी राफा पर हमले की तैयारी, लोगों से सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील

रिसर्च जहाज के रूप में क्लासीफाइड है ये जहाज

चीन के 4300 टन वजनी जासूसी जहाज Xiang Yang Hong 03 को एक ‘रिसर्च’ जहाज के रूप में क्लासीफाइड किया गया है. ये हिंद महासागर के तल की मैपिंग कर रहा है. इस तरह के रिसर्च एक्सरसाइज संबंधित देश को बहुत महत्वपूर्ण डेटा मुहैया कर सकते हैं. जिससे पानी के नीचे भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं की भविष्यवाणी करने और उनके विनाशकारी प्रभावों को कम करने में मदद मिल सकती है.

हिंद महासागर में क्यों बढ़ रहा चीन का दखल?

दरअसल भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान ने समुद्री रक्षा मंच QUAD बनाया है. चीन इसे अपने लिए खतरा मानता है. लिहाजा चीन अपनी समुद्री ताकत को बढ़ाने में जुटा है. QUAD के लिए हिंद-प्रशांत क्षेत्र सामरिक रूप से अहम है, इसलिए चीन यहां अपनी मौजूदगी बढ़ाने में जुटा है.

ये भी पढ़ें:-

मालदीव की ओर बढ़ रहा चीन का जासूसी जहाज, भारत के लिए नया खतरा! देखें- सैटेलाइट PHOTOS

Explainer : मालदीव को ऐसे निगल रहा ड्रैगन! कर्ज लेकर अपने देश को अगला ‘श्रीलंका’ बना रहे मुइज्जू?

“एक-दूसरे का करते हैं सम्मान…” : बीजिंग से लौटने के बाद मालदीव के राष्ट्रपति ने की ड्रैगन की तारीफ

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button