देश

'राहुल-प्रियंका ने भाई माना…' : पप्पू यादव ने कांग्रेस में विलय की अपनी पार्टी JAP, पूर्णिया से मांगा टिकट

पप्पू यादव ने कहा, “राहुल गांधी हमेशा मेरे साथ भाई की तरह रहे. मुझे उनका स्नेह भी मिला. राहुल गांधी ने संविधान बचाने के लिए लड़ाई लड़ी, वो वर्ल्ड हिस्ट्री है. प्रियंका गांधी ने भी बहन की तरह व्यवहार किया है. मैं 2024 में पूर्णिया सीट से चुनाव लड़ने को लेकर कांग्रेस नेतृत्व को कह चुका हूं. अब उन्हें फैसला लेना है.”

BJP-JJP ने ‘सीक्रेट डील’ से तोड़ा गठबंधन? क्या वाकई बिगड़े रिश्ते या कांग्रेस का बिगाड़ना है ‘खेल’

पिछले दिनों पप्पू यादव ‘प्रणाम पूर्णिया’ रैली निकाल रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा था कि अगर कांग्रेस उनको पूर्णिया से सीट देती है, तो वह अपनी पार्टी का कांग्रेस में विलय कर देंगे. बता दें कि कांग्रेस पप्पू यादव को पूर्णिया से लोकसभा चुनाव 2024 का उम्मीदवार बनाने के लिए लगभग तैयार हो गई है. 

बिहार के कांग्रेस प्रभारी मोहन प्रकाश ने पप्पू यादव की पार्टी का कांग्रेस में विलय कराया. पप्पू यादव के साथ उनके बेटे सार्थक यादव भी मौजूद रहे. इस मौके पर मोहन प्रकाश ने कहा, “साझेदारी न्याय से प्रभावित होकर पप्पू यादव ने कांग्रेस में विलय करने का निर्णय लिया. पप्पू यादव के आने से बिहार में कांग्रेस के साथ घटक दल को भी मजबूती मिलेगी.” 

कांग्रेस ने JAP के विलय को बताया ऐतिहासिक 

‘जन अधिकार पार्टी’ का कांग्रेस में विलय होने पर कांग्रेस मीडिया विभाग के चेयरमैन पवन खेड़ा ने कहा, ” JAP और पप्पू यादव किसी भी परिचय के मोहताज नहीं हैं. पप्पू यादव एक कद्दावर नेता हैं. वे आज कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व, नीतियों और दिशा से प्रभावित होकर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं. वे ‘जन अधिकार पार्टी’ का भी कांग्रेस में विलय कर रहे हैं. ये विलय साधारण नहीं है, बल्कि ऐतिहासिक है.”

यह भी पढ़ें :-  रामपुर सीट पर दिल्ली पार्लियामेंट स्ट्रीट की जामा मस्जिद के इमाम को टिकट देने की तैयारी में समाजवादी पार्टी

Explainer: महाराष्ट्र में टूटती-बिखरती कांग्रेस, राहुल गांधी की ‘न्याय यात्रा’ खत्म होने तक राज्य में कितनी बचेगी पार्टी?

पूर्णिया से तीन बार जीत चुके हैं लोकसभा चुनाव

पप्पू यादव पूर्णिया सीट से तीन बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं. 1991 लोकसभा चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पप्पू यादव पूर्णिया से चुनाव लड़े और जीत हासिल की. 1996 के चुनाव में बिहार से बाहर की पार्टी सपा ने उन्हें पूर्णिया सीट से अपना उम्मीदवार बनाया. पप्पू यादव यहां से चुनाव जीत गए. इसके बाद 1999 के चुनाव में पप्पू यादव फिर से निर्दलीय चुनाव लड़े और पूर्णिया सीट से तीसरी बार सांसद चुने गए.

RJD में हुए शामिल

इसके बाद पप्पू यादव ने RJD में शामिल हो गए. 2004 में मधेपुरा सीट पर हुए उपचुनाव में RJD के टिकट पर जीत हासिल की. हालांकि, 2009 में पप्पू RJD से बाहर हो गए, लेकिन 2014 में लालू यादव ने अपनी पार्टी में बुलाया और मधेपुरा सीट से शरद यादव के खिलाफ खिलाफ उम्मीदवार बनाया.

निशाना 48 सीटें या कुछ और… BJP को क्यों चाहिए राज ठाकरे? क्या शिंदे-अजित ‘पावर’ पर यकीन नहीं

2019 में मधेपुरा से चुनाव हार गए थे पप्पू 

2019 लोकसभा चुनाव में पप्पू यादव JAP के टिकट पर मधेपुरा से चुनाव लड़े थे. इस चुनाव में उन्हें करीब एक लाख वोट मिले और तीसरे नंबर पर रहे थे. जेडीयू के दिनेश चंद्र यादव को करीब 6.24 लाख और RJD के शरद यादव को 3.22 लाख वोट मिले थे.

यह भी पढ़ें :-  कोरोना ने फिर बढ़ाई चिंता, नए सब-वैरिएंट JN.1 के मरीजों की संख्या बढ़कर हुई 196

‘कुछ कर ही नहीं पाए, तो वोट कैसे मांगे’ : हिमाचल कांग्रेस अध्यक्ष ने लोकसभा चुनाव लड़ने से किया इनकार

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button