देश

MSCB घोटाला: ED ने शरद पवार के पोते की चीनी मिल को किया कुर्क

कन्नड एसएसके का ‘‘स्वामित्व” रोहित पवार की कंपनी बारामती एग्रो लिमिटेड के पास है. रोहित पवार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शरद पवार गुट के विधायक भी हैं. 

ईडी ने दावा किया कि बारामती एग्रो लिमिटेड द्वारा कन्नड एसएसके का ‘अधिग्रहण’ गैर कानूनी है , इसलिए इस तरह अर्जित की गयी संपत्तियां पीएमएलए के तहत ‘अपराध की कमाई’ है. 

महाराष्ट्र की कर्जत-जामखेड विधानसभा सीट से विधायक 38 वर्षीय रोहित पवार से ईडी पहले दो बार पूछताछ कर चुकी है. उससे पहले ईडी ने जनवरी में बारामती एग्रो, कन्नड एसएसके और कुछ अन्य संगठनों के परिसरों की तलाशी ली थी. 

ईडी ने कहा कि कन्नड एसएसके लिमिटेड के 80.56 करोड़ रुपये के पुराने ऋण को वसूलने के लिए एमएससीबी ने ‘वित्तीय आस्तियों का प्रतिभूतिकरण और पुनर्गठन तथा प्रतिभूति हित का प्रवर्तन(सरफासी)’ अधिनियम के तहत 13 जुलाई, 2009 को उसकी सभी संपत्तियां अपने कब्जे में ले लिया था. 

कम मूल्‍य पर की गई थी नीलामी : ED

ईडी ने आरोप लगाया कि एमएससीबी ने ‘बहुत कम’ आरक्षी मूल्य तय करते हुए 30 अगस्त, 2012 को कन्नड एसएसके की नीलामी की थी. 

उसने कहा, ‘‘बारामती एग्रो लिमिटेड के अलावा दो अन्य पार्टियों ने भी इस निविदा प्रक्रिया में हिस्सा लिया था. सबसे ऊंची बोली लगाने वाले निविदाकर्ता को मामूली वजहों से तकनीकी रूप से अयोग्य ठहरा दिया गया जबकि अन्य निविदाकर्ता बारामती एग्रो लिमिटेड का करीबी व्यापारिक साझेदार था और उसकी कोई वित्तीय क्षमता नहीं थी या उसे उसे चीनी इकाई चलाने का अनुभव नहीं था. 

रोहित पवार ने पहले संवाददाताओं से कहा था कि आर्थिक अपराध शाखा इस मामले में पहले ही ‘क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर चुकी है’ जबकि ईडी उनसे पूछताछ कर रही है. 

यह भी पढ़ें :-  अन्य राजनीतिक दलों के पास भले ही पैसा हो लेकिन 'आप' के पास लाखों लोगों का आशीर्वाद :  अरविंद केजरीवाल 

एमएससीबी धनशोधन अधिनियम मामला मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा द्वारा अगस्त, 2019 में दर्ज की गई प्राथमिकी पर आधारित है. 

ये भी पढ़ें :

* RSS ने 15 से 17 मार्च तक बुलाई प्रतिनिधि सभा, नए सरकार्यवाह का होगा चुनाव; इन मुद्दों पर होनी है चर्चा

* BJP की दूसरी लिस्ट में होगा नितिन गडकरी का नाम? उद्धव ठाकरे के ऑफर पर क्या बोले फडणवीस

* शिवसेना बनाम शिवसेना मामला : SC ने विधानसभा अध्यक्ष के फैसले पर उठाए सवाल, किया मूल रिकॉर्ड तलब

(इस खबर को The Hindkeshariटीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button