दुनिया

"जब समय आएगा…": हमास के समर्थन में खुलकर आया हिजबुल्‍लाह, इज़रायल के खिलाफ जंग लड़ने को तैयार

हिजबुल्लाह के डिप्‍टी चीफ नईम कासिम ने कहा कि हमास और इजराइल के बीच सातवें दिन भी भारी गोलाबारी जारी है.  शनिवार को हमास के सैकड़ों बंदूकधारियों ने गाजा से इजराइल सीमा पार कर हमला किया और 1,300 से अधिक लोगों को मार डाला, जिनमें से अधिकांश नागरिक थे. फ़िलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, इज़रायल ने जवाबी कार्रवाई में गाजा पट्टी में हमास के ठिकानों पर बमबारी की, जिसमें कम से कम 1,900 लोग मारे गए, जिनमें ज्यादातर नागरिक थे और 600 से अधिक बच्चे भी शामिल थे.

कासिम ने बेरूत के दक्षिणी में फिलिस्तीन समर्थक एक रैली में कहा, “हम इज़रायल के खिलाफ युद्ध में पूरा योगदान दे रहे हैं… हम अपनी विचारधारा और योजना के तहत इसमें योगदान देना जारी रखेंगे. हम पूरी तरह से तैयार हैं और जब समय आएगा, तो हम कार्रवाई करेंगे.” उन्होंने कहा, “अरब देशों और संयुक्त राष्ट्र के दूतों द्वारा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से हमें लड़ाई में हस्तक्षेप न करने के लिए कहने से, हम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. हिजबुल्लाह अपने कर्तव्यों को जानता है.”

इज़राइल ने हाल के दिनों में लेबनान में हिजबुल्लाह और सहयोगी फ़िलिस्तीनी गुटों पर गोलीबारी की है. शुक्रवार को दक्षिणी लेबनान में सीमा पार से गोलाबारी में रॉयटर्स के एक पत्रकार की मौत हो गई और एएफपी, रॉयटर्स और अल जजीरा के छह अन्य पत्रकार घायल हो गए. हालांकि इजरायली सेना ने कहा कि एक विस्फोट के बाद सीमा क्षतिग्रस्त होने के बाद उसके सैनिक “लेबनानी क्षेत्र की ओर से गोलाबारी” का जवाब दे रहे थे, तो पत्रकार हताहत हुए”. इजरायली वायु सेना ने एक्स, पूर्व में ट्विटर पर शनिवार को कहा था कि उन्‍होंने इजरायल में अज्ञात हवाई घुसपैठ और एक इजरायली ड्रोन पर गोलीबारी के जवाब में दक्षिणी लेबनान में हिजबुल्लाह आतंकी ठिकाने पर हमला किया था.”

Latest and Breaking News on NDTV

बता दें कि शुक्रवार को बेरूत के दक्षिणी शहर में 1,000 से अधिक हिजबुल्लाह समर्थकों ने फिलिस्तीनी झंडे और बैनर लेकर गाजा के लिए रैली की, जिन पर लिखा था: “ईश्‍वर आपकी रक्षा करें”. उन्होंने शिया मुस्लिम समूह के नेता को संबोधित करते हुए नारा लगाया, “(हसन) नसरल्लाह, तेल अवीव पर हमला करो.” 57 साल पहले बेरूत में पैदा हुए फ़िलिस्तीनी शरणार्थी नजवा अली एकजुटता रैली में भाग लेने वालों में से थे. उन्होंने एएफपी को बताया, “मैंने कभी फिलिस्तीन नहीं देखा है, लेकिन जब मैं एक दिन वापस जाऊंगी, तो मेरा सिर ऊंचा होगा. तब मुझे किसी इजरायली सैनिक के आदेश नहीं मानने होंगे कि कहां जाना है या क्या करना है.”

यह भी पढ़ें :-  इजरायल के अल्टीमेटम के बाद अपना घर-बार छोड़कर गाजा से निकलने लगे लोग, सामने आया VIDEO

सोमवार को हिजबुल्लाह ने कहा था कि इजरायली हमलों में उसके तीन सदस्य मारे गए, जबकि फिलिस्तीनी लड़ाकों ने घुसपैठ की कोशिश को विफल करने का दावा किया. इधर, मंगलवार को इज़रायल ने कहा था कि उसने हिजबुल्लाह की निगरानी चौकियों को निशाना बनाया, जबकि हमास की सशस्त्र शाखा ने रॉकेट हमले का दावा किया.

ये भी पढ़ें :- 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Show More

संबंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button